Bhopal News: फर्जी आईडी से न्यूड वीडियो बनाकर ठगी, सायबर क्राइम ब्रांच ने किया खुलासा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सायबर क्राइम ब्रांच ने सेक्सटॉर्शन करने वाले अंतर्राज्यीय ठगों को गिरफ्तार किया है। ये लोग महिलाओ के नाम की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर लोगों से दोस्ती करते थे। दोस्ती के बाद व्हाट्सएप नंबर लेकर वीडियो कॉल करते थे और व्हाट्सएप वीडियो कॉल मे पोर्न वीडियो चलाकर लोगों को न्यूड होने का बोलते थे। इसके बाद ये शातिर अपराधी व्हाट्सएप वीडियो कॉलिंग की स्क्रीन रिकॉर्डिंग कर वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देकर पैसों की मांग करते थे मांग।

इंदौर : हाईटेक तरीके से दिया एटीएम लूट को अंजाम, पुलिस जांच में जुटी

ये है मामला

भोपाल क्राइम ब्रांच भोपाल को सूचना मिली थी कि सेक्सटॉर्शन के नाम पर पैसे ऐंठने वाला गिरोह सक्रिय है। इसके बाद एक टीम गठित कर इन्हें पकड़ने की मुहिम शुरू कि गई और पुलिस ने ठगों को हरियाणा व राजस्थान से गिरफ्तार किया गया है। दरअसल, भोपाल निवासी एक व्यक्ति ने सायबर पुलिस को शिकायक की थी कि फेसबुक के माध्यम से किसी महिला के नाम की फ्रेन्ड रिक्वेस्ट आई। फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने पर महिला ने फेसबुक मैसेंजर पर फरियादी से बात की और विश्वास में लेकर फरियादी का वाट्सअप नंबर लेकर वीडियो कॉल किया। इस वीडियो कॉल में जिसमें एक महिला ने न्यूड दिख रही थी, साथ ही महिला ने फरियादी को भी कपड़े उतारने को कहा। फरियादी उसकी बातों में आ गया और इसके बाद उस महिला व फरियादी के न्यूज वीडियो की स्क्रीन रिकोर्डिंग कर महिला ने उस वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर पैसों की मांगी की। महिला द्वारा फरियार से अलग अलग बैंक खाते व मोबाइल वॉलेट में पैसे भेजने को कहा गया। लगातार पैसे देने के बावजूद महिला अधिक पैसों की डिमाण्ड करने लगी जिससे फरियादी परेशान हो गया और फिर उसने पुलिस के पास शिकायत की।

शिकायत की जाँच कर तकनीकी जानकारी के आधार पर थाना क्राइम ब्रांच भोपाल में अपराध क्रमांक 152/2021 व 153/2021 धारा 384 भादवि का पंजीबध्द कर विवेचना में लिया गया। इसके बाद सायबर क्राइम ब्रांच की टीम हरियाणा व राजस्थान रवाना हुई और टीम द्वारा आरोपी वसीम को फिरोजपुर झिरका मेवात हरियाणा से, आरोपी पुरूषोत्तम व यादराम को अलवर राजस्थान से गिरफ्तार किया गया है।

वारदात का तरीका

आरोपी फर्जी मोबाइल नंबर से फेसबुक पर सुंदर महिलाओं की फोटो प्रोफाइल में लगाकर फर्जी आईडी बनाते थे व ठगी के लिये लोगो को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दोस्ती करते थे। फेसबुक मैसेंजर पर अपनी बातों में लेकर विश्वास दिलाकर उनका व्हाट्सएप नंबर लेकर चैटिंग पर उकसाने वाली बातें करते थे व रात में वीडियो कॉल करते थे। वीडियो कॉल में सुंदर महिला की पोर्न वीडियो क्लिप दिखाकर लोगों को न्यूड होने के लिए उकसाते थे। इसके बाद वीडियो कॉल की स्क्रीन रिकॉर्डिंग कर लेते थे, जिसके बाद उस वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करने, परिजन एवं परिचितों को भेजने की धमकी देकर पैसों की माँग करते थे।

आरोपियों द्वारा मध्यप्रदेश के अलावा गुजरात, महाराष्ट्र, छतीसगढ़, दिल्ली में भी लोगों को इस प्रकार की ठगी का शिकार बनाया जा चुका है चुके है। इलेक्ट्रानिक साक्ष्यों की एनालिसिस से सामने आया कि आरोपी अभी तक मध्यप्रदेश में में 50-60 लोगों को ठग चुके है लेकिन अधिकतर पीड़ितों द्वारा सामाजिक बदनामी के डर से रिर्पोट नहीं की गई है। आरोपियों द्वारा अलग अलग बैंक खातों में राशि जमा करवायी जाती थी। इन खातों में अब तक करीब 60-70 लाख रूपये पिछले 1 वर्ष के दौरान जमा किए जा चुके हैं। इसके पास से 5 मोबाइल फोन, 3 एटीएम कार्ड, 10 सिम कार्ड, 5 मेमोरी कार्ड व अन्य दस्तावेज जब्त किए गए हैं। साथ ही इनके बैंक खाते फ्रीज कर दिए गए हैं।