शिवराज कैबिनेट के इस फैसले से 181 गांवों और पटवारियों को मिलेगा लाभ

खंडवा जिले की पुनासा तहसील का पुनर्गठन कर नई तहसील मूंदी को मंजूरी मिली है। मूंदी में अब नया तहसील भवन बनाया जाएगा।

शिवराज कैबिनेट

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) की अध्यक्षता में मंगलवार 9 नवंबर 2021 को एक शिवराज कैबिनेट बैठक (Shivraj Cabinet Meeting 2021) सम्पन्न हुई, जिसके 4 नई तहसीलों के गठन के प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गई। बैठक में जिला खण्डवा में नवीन तहसील किल्लौद, जिला टीकमगढ़ में नवीन तहसील दिगौड़ा, जिला खण्डवा में नवीन तहसील मूंदी और जिला बुरहानपुर में नवीन तहसील धूलकोट के गठन का अनुसमर्थन किया गया।शिवराज सरकार के इस फैसले से 181 गांवों और पटवारियों को बड़ा लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़े.. MP के अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, देना होगा प्रमाण पत्र, सौंपी जिम्मेदारी

राजस्व एवं परिवहन मंत्री  गोविंद सिंह राजपूत (Revenue and Transport Minister Govind Singh Rajput) ने बताया कि शिवराज कैबिनेट में खंडवा जिले की पुनासा तहसील का पुनर्गठन कर नई तहसील मूंदी को मंजूरी मिली है। मूंदी में अब नया तहसील भवन बनाया जाएगा। इस नई तहसील मूंदी में 31 पटवारी हलको के 60 ग्रामों को शामिल किया गया है, जिससे यहाँ की जनता को तहसील से जुड़े सभी कार्य के लिए अब पुनासा जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसी प्रकार खंडवा जिले में ही एक और नई तहसील किल्लोद का गठन कर मंजूरी दी गई है। नई तहसील किल्लोद में 16 पटवारी हलको के 32 ग्राम एवं डूब क्षेत्र के 31 ग्राम तथा एक वन ग्राम सहित 64 ग्राम शामिल किए गए हैं।

यह भी पढ़े.. MP School: निजी स्कूलों के लिए काम की खबर, 15 तक करें आवेदन, मंडल जारी करेगा डेट

राजस्व मंत्री राजपूत ने बताया कि इसी प्रकार टीकमगढ़ जिले में नई तहसील दिगौड़ा के गठन को मंजूरी दी गई है। नई तहसील दिगौड़ा में 19 पटवारी हलके के 43 ग्राम शामिल किए गए हैं। बुरहानपुर जिले में नवगठित नवीन तहसील धूलकोट में 11 पटवारी हलको के 14 ग्राम शामिल किए गए हैं।  राजपूत के विशेष प्रयास से नवगठित 4 तहसीलों के 181 ग्राम के निवासियों को राजस्व से जुड़े सभी प्रकार के मामलों के निराकरण के लिए अब दूसरी तहसीलों में नहीं जाना पड़ेगा। प्रदेश की शिवराज सरकार हमेशा जन-हितैषी निर्णय लेकर आम जनता की सुविधा को बढ़ाने के प्रयास में लगी रहती है। राजस्व विभाग का यह प्रयास सुशासन की दिशा में एक कदम बढ़ाने की कोशिश है।