मुख्यमंत्री शिवराज सिंह बोले-हर मंडे विभाग की लें बैठकें, योजना में निकम्मापन बर्दाशत नहीं

सीएम शिवराज सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting) के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने सभी अधिकारियों और मंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा कि  आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण रोडमैप के लक्ष्यों की प्राप्ति समय-सीमा में सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक सोमवार को समीक्षा बैठकें आयोजित की जाए। इसमें मंत्री समूह के मंत्री लीड लें तथा अधिकारी क्रियान्वयन सुनिश्चित करें। इसी प्रकार विभिन्न मंत्री-समूहों द्वारा भी अपनी अनुशंसाएँ प्रस्तुत की गयी हैं।

यह भी पढ़े… Modi Cabinet Expansion: चिराग पासवान का ऐलान-इन्हें कैबिनेट में मंत्री बनाया तो जाउंगा कोर्ट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज माननीय मंत्रीगण, विभागाध्यक्ष और वरिष्ठ अधिकारियों से विचार साझा करते हुए कहा कि जहाँ भारत सरकार से समन्वय या अंतर्विभागीय समन्वय की जरूरत हो, वहाँ मुख्यमंत्री सचिवालय या मुख्य सचिव के तत्काल ध्यान में लायें। अब आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए निर्धारित लक्ष्य की दिशा में तेज गति से कार्य करना है। आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए रोडमैप तैयार है, गतिविधियाँ, उप गतिविधियाँ, आउटपुट और आउटकम आदि निर्धारित हैं। अब यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि सभी लक्ष्य समय-सीमा में प्राप्त किए जाएँ।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहा कि सभी हितग्राहीमूलक योजनाओं में कोई भी पात्र व्यक्ति योजना के लाभ से वंचित न रहे और अपात्र को किसी भी हालत में गलत तरीके से लाभ न मिले, ये सुनिश्चित करना होगा। ये सही है कि कोविड काल में कुछ योजनाओं के क्रियान्वयन में बजट की कमी के कारण कठिनाई आई है, लेकिन हमें हर हाल में यह सुनिश्चित करना है कि भ्रष्टाचार न हो। योजनाओं के क्रियान्वयन में अकर्मण्यता और निकम्मापन बर्दाश्त नहीं होगा।

यह भी पढ़े…CM Helpline: अपर कलेक्टर का एक्शन- लापरवाही पर 2 पटवारी निलंबित, 4 को नोटिस

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि संकट के चलते सरकार के राजस्व में कमी आई है। ये कठिन समय है, इसलिए राजस्व अर्जन को बढ़ाने के पूरे प्रयास किये जायें। योजनाओं और कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में जहाँ-जहाँ लीकेज और लापरवाही है, उसे दुरूस्त करना होगा, ताकि संसाधनों का सही उपयोग हो सके। दूसरी ओर हमें अनावश्यक खर्चों में कमी लानी होगी और जितना अधिक हो सके, मितव्यता बरतनी होगी। वित्तीय अनुशासन जितना अधिक होगा, उतने ही संसाधन बढ़ेंगे। जो कार्य हमने ठेकेदारों और एजेंसियों से करवाए हैं, उनका भुगतान प्राथमिकता पर किया जाये। ठेकेदारों के भुगतान अनावश्यक रूप से लंबित नहीं रहने चाहिए। यह भ्रष्टाचार की जड़ है।

रोजगार पर करें फोकस

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विभिन्न योजनाओं में भारत सरकार से अधिक से अधिक धनराशि प्राप्त करने का प्रयास करें। इसके लिए मंत्री एवं अधिकारी स्तर पर लगातार केंद्र सरकार से संपर्क और संवाद बनाये रखें। सभी विभागों में नवाचार के प्रयास जारी रहें। प्रदेश में अधिक से अधिक रोजगार के अवसरों का सृजन किया जाना है। निवेश बढ़ने से रोजगार के अवसर बढ़ते हैं। अत: निवेश के लिए सहयोगी वातावरण के निर्माण और निवेश प्रोत्साहन के लिए आवश्यक गतिविधियाँ संचालित की जाएं।

तबादलों मे बरतें पारदर्शिता

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि  बेटियों के साथ जो अपराध हुए हैं, वो अक्षम्य हैं। कोई यह न सोचे कि यह तो घरवालों ने ही किये हैं। इस मामले में कोई घरवाला या परिवारवाला नहीं है।इसमें ऐसी सख्त कार्रवाई जरूरी है, जो बाकी अपराधियों के लिए उदाहरण बन जाये।स्थानांतरण से प्रतिबन्ध 31 जुलाई तक के लिए हटाया गया है। स्थानान्तरण में पूरी पारदर्शिता बरती जाये और नीति के अनुरूप प्रशासनिक और मानवीय आधार पर स्थानीय परिस्थितियों को देखते हुए स्थानान्तरण किये जायें। यह सुनिश्चित किया जाये कि किसी को कोई तकलीफ न हो।