बीजेपी को बड़ा झटका, पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला के भाई समेत इन नेताओं ने थामा कांग्रेस का दामन

bjp-former-minister-Rajendra-Shukla's-brother-joined-congress

भोपाल| लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी पार्टियों ने दूसरे दलों में तोड़फोड़ भी तेज कर दी है| इसी क्रम में विंध्य में कांग्रेस ने भाजपा को बड़ा झटका दिया है| विंध्य के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल के भाई विनोद शुक्ला कांग्रेस में शामिल हो गए हैं| शनिवार को भोपाल में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्ला को कांग्रेस की सदस्यता दिलाई| शुक्ला इससे पहले 2013 में भी कांग्रेस में शामिल हुए थे, इसके बाद फिर वे कांग्रेस से बाहर चले गए थे|  

विंध्य के कद्दावर नेता और शिवराज सिंह मंत्रिमंडल के मंत्री रहे राजेंद्र शुक्ला के भाई विनोद शुक्ला ने शनिवार को कांग्रेस का दामन थाम लिया है| चुनावी दौर में विनोद शुक्ला का कांग्रेस में जाना भाजपा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है| शुक्ला के अलावा कई और लोगों ने भी कांग्रेस की सदस्यता ली है| रिटायर मेजर जनरल श्याम श्रीवास्तव, मैहर के नपाध्यक्ष धीरज पांडेय और सतना की पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष रश्मि सिंह ने भी कांग्रेस का दामन थाम लिया| सीएम कमलनाथ ने पर्ची काटकर सभी को सदस्यता दिलाई| इस दौरान कमलनाथ ने कहा आज कांग्रेस मे शामिल होने वाले सच्चाई देख रहे हैं| चुनाव को लेकर कहा मध्य प्रदेश में 22 से ज्यादा सीटों पर कांग्रेस की जीत होगी, वहीं भाजपा इस बार देश में 160 सीटों पर सिमट जायेगी|  

बांटने की राजनीति के कारण छोड़ी भाजपा, शुक्ला पहले भी थाम चुके हैं ‘हाथ’ 

कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद विनोद शुक्ला का कहना है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की न्यूनतम आय गारंटी योजना और बीजेपी की बांटने की राजनीति की वजह से उन्होंने यह फैसला लिया है| बीजेपी से मोहभंग होने की बात पर विनोद शुक्ला ने कहा कि आज देश में जितना भी विकास दिख रहा है, वह कांग्रेस की देन है| शुक्ला जो वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव मे मऊगंज से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लडने आये थे,पर कांग्रेस ने उनको अपना प्रत्याशी घोषित नही किया,जिसके कारण नाराज होकर शुक्ला निर्दलीय चुनाव चिन्ह आलमारी निशान पर लड़े थे|  2013 के चुनाव मे निर्दलीय के रूप मे उन्होंने 14 हजार मत हासिल किये| इसके बाद वर्ष 2014 मे प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिह चौहान के हाथो भाजपा की सदस्यता लेकर भाजपाई हो गये । बीते 2018 के चुनाव मे श्री शुक्ला को देवतालाव विधानसभा क्षेत्र का प्रभारी बनाया गया, इसके बाद अटकले लगाई जा रही थी कि विनोद शुक्ला को भाजपा रीवा से लोकसभा का टिकट देकर मैदान मे उतारेगी । लेकिन रीवा से पुन: वर्तमान सांसद जनार्दन मिश्रा को भाजपा ने चुनाव मैदान मे उतार दिया । अभी कांग्रेस मे रीवा लोकसभा के टिकट को लेकर भोपाल से लेकर दिल्ली तक माथापच्ची जारी है,उसी बीच विनोद शुक्ला के कांग्रेस मे शामिल होने से भाजपा को बड़ा झटका लगा है| अब कांग्रेस उन्हें क्या जिम्मेदारी देगी उन्हें चुनाव लड़ाएगी या नहीं इसको लेकर सस्पेंस बना हुआ है|