रिश्वत मामले में बोली रामबाई, कहा-देश में ऐसा कौन सा अधिकारी है जो घूस नहीं लेता !

रामबाई का कहना है कि अगर कोई स्वेच्छा से कोई देता है तो आटे में नमक बराबर चलता है।

दमोह, आशीष कुमार जैन। रिश्वत लेने को लेकर आटे में नमक चलने की बात कहने वाली पथरिया की बसपा विधायक (BSP MLA) रामबाई सिंह (Rambai Singh) का एक नया वीडियो (Rambai New Video) सामने आया है। नए वीडियो में उन्होंने कहा है कि देश में ऐसा कौन सा अधिकारी है जो पैसा नहीं लेता ? सब लेते हैं। उनका यह भी कहना है कि उनको जैसे ही जानकारी मिलती है वह लोगों के पैसे वापस भी कराती हैं।

यह भी पढ़ें…सैलरी से पैसे काटे तो सिक्योरिटी गार्ड ने ले ली सुपरवाइजर जान, घटना का CCTV फुटेज आया सामने

विधायक ने बताया कि गांव में सभी लोग थे। जिसमें हमने पंचायत सचिव और रोजगार सहायक को भी बुलाया था। उधर लेन देन की लापरवाही देखने को मिली जो अधिकारियों और जनता दोनों ने कबूल की। इसके बाद मैंने बोला की भाई इनके पैसे वापस करो और उन्हें दिए भी हैं और कुछ के लिख लिए हैं कि जो बाद में देंगे। रामबाई ने आगे कहा कि यह एक ही गांव की बात तो है नहीं, यह तो पूरे मध्यप्रदेश और भारत भर की स्थिति है। कौन सी पंचायत और कौन से विभाग हैं और कौन से ऐसे अधिकारी हैं जो रिश्वत नहीं लेते हैं सभी लेते हैं। शासन-प्रशासन से लेकर बड़े-बड़े अधिकारियों तक को इसकी जानकारी है। मेरे विधानसभा में इसको लेकर लगातार प्रयास करती हूँ। लोगों को पैसे नहीं लेने देती और लोग मेरे डर से पैसा लेते भी नहीं।

स्वेच्छा से कोई देता है तो आटे में नमक बराबर चलता है-रामबाई
वहीं जब उनसे आटे में नमक के बराबर रिश्वत लेने की बात पूछी गई तो उन्होंने कहा कि हम तो सब से बोलते हैं कि एक रुपए भी मत लो लेकिन कोई सुनता है क्या ? इसके पहले मैंने सब से कहा और कई जगह पैसे भी लौट आए हैं। मैंने डांट भी लगाई है। अधिकारियों का पक्ष लेते हुए कहा कि लेकिन बात सहायक सचिव की है। जो दमोह से आते हैं और जिन्हें सिर्फ 7 से 8 हजार रुपए मिलते है। वह मुझसे खुद कहने लगे कि दीदी हमारी स्थिति ऐसी है कि सो 100 से 200 रुपए तो हमें आने-जाने में लग जाते हैं। तो मैंने उनसे कहा कि अगर कोई स्वेच्छा से कोई देता है तो आटे में नमक बराबर चलता है।

क्या था मामला
मालूम हो कि रामबाई का एक वीडियो वायरल हुआ था। जो उनके क्षेत्र के झागर गांव का था। दरअसल रामबाई गांव के दौरे पर थी जहां पीएम आवास में उन्हें ग्रामीणों द्वारा भ्रष्टाचार की शिकायत मिली थी। जिसके बाद उन्होंने रोजगार सहायक और पंचायत सचिव को मौके पर बुलाकर ग्रामीणों की समस्या सुनी और इसी बीच उन्होंने रिश्वत लेने के मामले में आटे में नमक बराबर पैसा लिए जाने की वकालत की थी। ऐसे हालात में रामबाई की यह बात भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने की सीख तेजी से सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई थी।

यह भी पढ़ें… छतरपुर में अधिकारियों ने किया ऐसा काम, अब हो रही जिले भर में हो रही चर्चा