शिवराज के निवास पर कैबिनेट का रात्रि भोज, आखिर क्या है एजेंडा!

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) अपने शासकीय निवास पर आज कैबिनेट सदस्यों को रात्रि भोज देने जा रहे हैं। इस रात्रि भोज में प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत व सह संगठन महामंत्री हितानंद भी शामिल हो सकते हैं। इस रात्रिभोज में सरकार और संगठन के चिंतन के सार से प्रदेश के विकास की रणनीति बनेगी।

फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा नेमावर हत्याकांड का मुकदमा, सीएम शिवराज की घोषणा

जिलों का प्रभार बांटने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने कैबिनेट सदस्यों को श्यामला हिल्स स्थित निवास पर रात्रि भोज देने जा रहे हैं। इस रात्रि भोज में संगठन के चुनिंदा लोगों के शामिल होने की भी उम्मीद है। कोरोना की दूसरी लहर पर विजय पाने के बाद शिवराज सरकार ने पूरे देश के अंदर जिस तरह से मिसाल पैदा की है और वैक्सीनेशन में भी रिकॉर्ड बनाया है, उसे सरकार का उत्साह बढ़ा हुआ है। अब इस रात्रि भोज के माध्यम से सरकार विपक्ष व आलोचकों के उन आरोपों का जवाब देना चाहती है जो लगातार सरकार की नीति पर सवालिया निशान खड़े करते रहे हैं।

पिछले एक पखवाड़े के अंदर शिवराज सिंह चौहान एक बार फिर मजबूत मुख्यमंत्री के रूप में सामने आए हैं और उन्होंने अपने नेतृत्व से पूरे देश के अंदर एक संदेश भी दिया है कि मजबूत राज्य का मजबूत मुख्यमंत्री बड़ी से बड़ी मुसीबत को किस तरह से धराशायी कर सकता है। आने वाले समय में सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती कोरोना की तीसरी संभावित लहर का सामना करना है जिसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान न केवल भोपाल बल्कि शहडोल जैसे दूरस्थ स्थानों पर जाकर भी तैयारियों का जायजा ले रहे हैं और चिकित्सा तंत्र को लगातार मजबूत बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके साथ ही आने वाले समय में लोकसभा का एक और विधानसभा के तीन उपचुनाव होने हैं और नगरीय निकाय के चुनाव भी आने वाले समय में जल्द प्रस्तावित हैं। अब क्योंकि मंत्रियों को जिलों का प्रभार दिया जा चुका है, इसीलिए इस बात की भी व्यापक संभावना है कि मुख्यमंत्री विशेषकर नए मंत्रियों को इस बात के निर्देश दें कि किस तरह से जिलों को आत्मनिर्भर कर अधिक सशक्त करना है ताकि आने वाले समय में सरकार के प्रति लोगों की सकारात्मकता और अधिक बढ़े।