सीएम शिवराज ने मंत्रियों को दिए ये बड़े निर्देश, बोले- आर्थिक गतिविधियों पर कोई अंकुश नहीं

सीएम सिंह चौहान ने सभी मंत्रियों से कहा कि स्वामी विवेकानंद जयंती पर आगामी 12 जनवरी को रोजगार दिवस मनाया जाएगा।

सीएम शिवराज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आज सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting Today) सम्पन्न हुई। इस बैठक से पहले सीएम ने मंत्रियों से चर्चा की और कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए।सीएम शिवराज ने सभी मंत्रियों से कहा कि स्वामी विवेकानंद जयंती पर आगामी 12 जनवरी को रोजगार दिवस (12 January 2022 Employment Day) मनाया जाएगा। एक दिन में तीन लाख लोगों को ऋण स्वीकृति-पत्र प्रदान किए जाएंगे। यह एक बड़ा कदम होगा। यह कार्य प्रतिमाह किया जाएगा। राज्य स्तरीय समिति और जिलों की समितियों से संपर्क कर मध्यप्रदेश को विभिन्न और स्व-रोजगार योजना में अग्रणी बनाने के प्रयास करें।

यह भी पढ़े… कर्मचारियों को जल्द मिलेगी 2 गुड न्यूज! 30 हजार तक बढ़ जाएगी सैलरी, जानिए ताजा अपडेट

सीएम शिवराज सिंह चौहान  ने आगे कहा कि पीएम और सीएम स्वानिधि  (PM and CM Swanidhi Yojana) सहित अन्य योजनाओं में हमें अग्रणी रहना है। मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना को भी पूरी ताकत के साथ लागू करना है।जिलों में किए गए संवाद, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से हुई चर्चा और प्रशासन एवं जनता की भागीदारी से अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। आशा है मध्यप्रदेश सामान्य वैक्सीनेशन के साथ 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के वैक्सीनेशन में भी नंबर एक पर बना रहेगा।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश में बच्चों के वैक्सीनेशन में सभी प्रांतों से आगे रहने की उपलब्धि पर स्वास्थ्य विभाग सहित सभी सहयोगी विभागों, स्थानीय प्रशासन, जन-प्रतिनिधियों, शिक्षक संगठनों और नागरिकों को बधाई दी है।मंत्रि-परिषद के सदस्यों से अनुरोध किया कि वे अपने प्रभार के जिलों में बच्चों के वैक्सीनेशन कार्य का निरंतर जायजा लें। इस कार्य को गति देने के लिए अपने नेतृत्व में प्रयास करें।

यह भी पढ़े.. MP Weather: बुधवार से बदलेगा मौसम, इन जिलों में बारिश-ओले के आसार, जानें शहरों का हाल

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक के पहले सदस्यों को जानकारी दी कि मध्यप्रदेश उन राज्यों में शामिल है, जहाँ बेरोजगारी की दर सबसे कम है। निश्चित ही यह मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। गत वर्ष अधोसंरचना पर 40 प्रतिशत अधिक राशि खर्च की गई। कोरोना काल में किए गए प्रयास इसलिए महत्व रखते हैं क्योंकि संकट के समय ऐसे प्रयासों की आवश्यकता थी। हमने विपरीत परिस्थितियों में उपलब्धि अर्जित की है। लघु, मध्यम एवं सूक्ष्म उद्योगों के विकास के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।

आर्थिक गतिविधियों पर कोई अंकुश नहीं

सीएम शिवराज चौहान ने कहा कि प्रदेश में आर्थिक गतिविधियों पर कोई अंकुश नहीं रहेगा। संक्रमण से बचाव के लिए सभी सावधानियों का पालन हमें करना है। गरीब व्यक्ति को रोजी-रोटी के लिए परेशान नहीं होना पड़े, साथ ही सभी वर्गों की जीविका के काम में कोई संकट खड़ा न हो, इसका भी ध्यान रखा जाए। विद्यालयों में 50 प्रतिशत क्षमता से उपस्थिति की व्यवस्था कायम रहेगी।सभी सदस्य अपने जिलों में अस्पतालों में बैड, ऑक्सीजन प्लांट, सिटी स्केन और अन्य उपकरणों की उपलब्धता का जायजा लें। होम आइसोलेशन के लिए आवश्यकता पड़ने पर कोविड केयर सेंटर्स के संचालन की तैयारी भी देखें। जिन लोगों की टेस्ट रिपोर्ट पॉजीटिव आती है उनके घर में यदि स्थान का अभाव है तो उन्हें कोविड केयर सेंटर में आइसोलेट रखने की व्यवस्था की जाए।

सागर वैक्सीनेशन में आगे

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्य जिलों में भ्रमण कर स्वास्थ्य एवं उपचार की सुविधाओं का जायजा लें। कोरोना के नये स्वरूप ओमिक्रान वेरिएंट से जनता को बचाने के लिए मिलजुल कर प्रयास करना है। जन-प्रतिनिधि स्वयं के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। मध्यप्रदेश 15 से 18 वर्ष के किशोरों को वैक्सीन का डोज लगाकर सभी राज्यों से आगे है। यह वातावरण बनाये रखा जाए।सागर में 58 हजार 803 किशोरों को वैक्सीन डोज लगाए गए। प्रदेश में 3 जनवरी को 10 लाख 32 हजार 996 डोज लगाए गए। यह उपलब्धि लक्ष्य के मुकाबले 86 प्रतिशत है। सागर में 168 प्रतिशत, प्रदेश में दूसरे क्रम पर छतरपुर में 168 प्रतिशत और तीसरे क्रम पर मंदसौर में 133 प्रतिशत उपलब्धि हासिल की गई है।