Madhya Pradesh -CM शिवराज को आज बताएंगे मंत्री, क्या है अगले 3 महिनों का प्लान

सीएम शिवराज सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। MP उपचुनाव (MP By-election) के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक्टिव मोड़ में आ गए है और मध्यप्रदेश के विकास पर लगातार फोकस बनाए हुए है। इसी कड़ी में आज शुक्रवार (Friday) से मुख्यमंत्री शिवराज विभागवार समीक्षा बैठक शुरु करने जा रहे है। इस दौरान मंत्रियों से उनके विभाग की रिपोर्ट ली जाएगी और पूछा जाएगा कि बजट कितना खर्च हुआ और क्या-क्या काम किए और कब तक पूरे होंगे और आगे 3 महिनों का क्या प्लान है।

सबसे पहले आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव  (Gopal Bhargava) और स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार (Inder Singh Parmar से चर्चा करेंगे और विभागों के बारें में जानकारी लेंगे।इस दौरान मंत्रियों को बताना होगा कि उनके विभाग का काम कहां तक पहुंचा, अबतक बजट कहां और कितना खर्च हुआ, क्या पेंडिंग है और कब तक पूरा होगा।इसके साथ ही दोनों मंत्रियों से ये भी पूछा जाएगा कि अगले तीन महिनों तक उनके विभाग ने क्या रोड मैप तैयार किया है। शाम 5 बजे पीडब्ल्यूडी विभाग (PWD Department) की होगी। इसके बाद स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) का प्रजेंटेशन (Presentation ) होगा।वही मुख्यमंत्री इस दौरान आत्म निर्भर मध्य प्रदेश (Aatmanirbhar MP) को लेकर चर्चा भी करेंगे कि उनके विभाग ने इस संबंध में कितनी और क्या तैयारियां की है।

इसके अलावा यूपी की योगी सरकार (Yogi Government) के बाद लव जिहाद(Love Jihad) कानून को लेकर मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार भी इसे लागू करने की तैयारियां तेज कर दी है।इसी के चलते देर शाम गृह विभाग (Home Department) के अफसर धर्म स्वातंत्र्य कानून के ड्राफ्ट का प्रजेंटेशन भी मुख्यमंत्री के सामने करेंगे। कानून को लेकर बने ड्राफ्ट पर चर्चा करेंगे। बीते दिनों ही हुई बैठक में  5 साल की सजा को बढ़ा कर 10 साल की सजा का प्रावधान किया गया है। आज चर्चा के बाद इसे कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा, ताकी 28 दिसंबर से शुरु होने वाले विधानसभा (Madhya Pradesh Legislative Assembly) के शीतकालीन सत्र में सदन में पेश कर पास करवाया जा सके।खास बात ये है कि यूपी के बाद मध्यप्रदेश में भी सरकार इसे जल्द से जल्द लागू करवाना चाहती है।

पिछली कैबिनेट बैठक में कहा था- अब हर माह विभागों की रेटिंग होगी

दरअसल, उपचुनाव (Byelection) के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting) में मंत्रियों को दो टूक कहा गया था कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोड मैप तैयार है। मंत्री गण इसे तेजी से अमल में लाएं। हमें एक दिन भी व्यर्थ नहीं करना है, हमें परिणाम देना है। केंद्र की हर योजना में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) को नंबर वन रहना है। सरकार बहुमत में आने के बाद जिम्मेदारी भी बढ़ी है। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए थे कि अब हर माह विभागों की रेटिंग की जाएगी। मंत्रियों को हर माह रिपोर्ट कार्ड (Report Card) पेश करना होगा। हर सोमवार (Every Monday) को प्रत्येक मंत्री अपने विभाग की समीक्षा भी करेगा। सीएम डेस्क बोर्ड का गठन किया जा रहा है और हर विभाग की प्रगति रिपोर्ट इसमें आएगी।