विदेश से लौटते ही सीएम का बड़ा वार, “शिवराज को आ रही कुर्सी की याद”

CM-kamalath-said-shivraj-missing-his-cm-tenure-

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ स्विटजरलैंड के दावोस में विश्व आर्थिक सम्मेलन से लौट आए हैं। उन्होंने लौटते ही सबसे पहले पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि शिवराज को किसी की नहीं बल्कि कुर्सी की याद आ रही है। इसलिए वह अब झुग्गी झोपड़ी वालोंं को याद कर रहे हैं। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि जिन्होंने किसानों के नाम पर घोटाला किया है उनपर जल्द ही एफआईआर होगी। 

दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को छिंदवाड़ा पहुंचे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि सहकारी बैंकों में सबसे अधिक घोटालों की शिकायते मिली हैं। जिन किसानों ने लोन नहीं लिया उनके नाम पर भी कर्ज दिखाया जा रहा है। कॉपरेटिव बैंक के साथ मिलीभगत के तहत ये काम किया गया है। इसलिए मैंने ये निर्देश दिए हैं कि जो भी जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ एफआईआर की जाए। ये सब घोटाले पिछली सरकार के कार्यकाल में हुए हैं। इनकी जांच करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री कमलनाथ दो दिन के छिंदवाड़ा दौरे पर हैं। गणतंत्र दिवस पर वह छिंदवाड़ा में ध्वजारोहण करेंगे|

गौरतलब है कि कमलनाथ सरकार के जय किसान कर्ज़माफी योजना के दौरान ये घोटाले सामने आ रहे हैं। किसानों के नाम पर ऐसे लोगों ने कर्ज़ ले लिया जो उसके हक़दार ही नहीं थे. ऐसे नामों पर कर्ज़ लिया गया जिस नाम का कोई व्यक्ति है ही नहीं। वाही कई किसानों के कर्ज से अधिक राशि माफ़ी की जा रही आहे| जय किसान ऋण माफी योजना के तहत पंचायत दफ़्तरों पर उन किसानों के नाम की लिस्ट लगायी जा रही है जिनका लोन माफ किया जा रहा है। लिस्ट लगते ही किसान शिकायत और आपत्ति कर रहे हैं। लिस्ट में फर्ज़ी नाम हैं। इस गड़बड़ी के सामने आने के बाद सरकार ने किसानों के नाम पर फर्जी ऋण निकालने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं| 

वहीं, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान लगातार कांग्रेस सरकार पर हमला बोल रहे हैं| गुरूवार को वह राजधानी के एक झुग्गी बस्ती पहुंचे थे जहां उन्होंने कहा था कि जनता की सेवा करने के लिए मुझे किसी पद की ज़रूरत नहीं है। हम दोगुनी ताकत से जनता के मुद्दे उठाएंगे। ये जनता ही हमारी असली ताकत है। इनकी ज़िंदगी में कोई कष्ट न हों, यही हमारा लक्ष्य है। समझ में नहीं आता यह सरकार कौन चला रहा है। जनता के हित के लिए कोई काम नहीं कर रहा है। किसानों की फसलें नष्ट हो रही हैं और शासन-प्रशासन हाथ पर हाथ रखे बैठा है। जनकल्याणकारी योजनाओं को यदि सरकार ने बंद किया, तो ठीक नहीं होगा। मैं इसे बंद नहीं होने दूंगा। उन्होंने कहा था कि अगर सम्बल योजना बंद की तो सरकार चलाना मुश्किल कर दूंगा| उनके इस बयान पर कमलनाथ ने कहा, अब शिवराज को झुग्गी बस्ती याद आ रही है, सबकुछ याद आ रहा है, सबसे ज्यादा तो उन्हें कुर्सी की याद आ रही है| 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here