मैने कभी उद्घाटन या घोषणा नही की, काम होगा तो सभी को पता चल जाएगा : कमलनाथ

CM-kamalnath-said-I-have-never-inaugurated-or-announced

छिंदवाड़ा।

मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार छिंदवाड़ा पहुंचे कमलनाथ ने आज दूसरे दिन अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में अफसरों से कमलनाथ ने दो टूक कहा विकास और प्रशासन के लिए छिंदवाड़ा पूरे मध्यप्रदेश  में नज़ीर बने ऐसा काम होना चाहिए। अधिकारी अपनी गरिमा बनाकर रखें। पुलिस अधिकारियों से बोले कि वे अपनी वर्दी की इज्जत बनाकर रखें।मैंने छिंदवाड़ा में हाईवे बनवाया और ट्रेन चलवाई लेकिन ना तो इसका कभी उद्घाटन किया और ना ही इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि काम होगा तो सभी को पता चल जाएगा।

कमलनाथ ने कहा कि योजनाओं के डिलीवरी सिस्टम में सुधार लाना होगा। सालों से बनी व्यवस्थाओं को आज के समय और मांग के अनुसार बदलने की जरूरत है। उपलब्धता के आंकड़े मायने नहीं रखते, आम जनता का संतोष मायने रखता है।हमें व्यवस्था में बदलाव करना है। नई सोच के साथ काम करना होगा।मैं व्यवस्था बदलना चाहता हूं और नई व्यवस्था लागू करना चाहता हूं। अब से जनसुनवाई में कलेक्टर के साथ क्षेत्र के विधायक भी बैठेंगे।  छिंदवाड़ा हाईटेक सेवाओं से लेस होगा।पूरा शहर सीसीटीवी कैमरे की जद में होगा। शहर पर  236 सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी । इस दौरान कमलनाथ ने पुलिस कर्मियों के मेधावी बच्चों को 25 हज़ार रूपये और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।यहां कमलनाथ ने पुलिस लाइन में CCTV कंट्रोल रूम, प्रशासकीय भवन रक्षित केंद्र, पुलिस लाइन एवं प्रशासकीय सह प्रशिक्षण भवन का लोकार्पण किया।

इस दौरान सीएम कहा प्रदेश में पाले से प्रभावित किसानों को सहायता देने से पहले सर्वे किया जाएगा। इस सर्वे में तहसीलदार, पटवारी के अलावा जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे, चाहे वे किसी भी पार्टी के हो। उन्होंने फिर दोहराया कि मैं कोई घोषणा और वादा नहीं करूंगा। 

मध्य प्रदेश में बदलेंगे कलेक्टरों के नाम

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में कलेक्टरों के नाम बदले जाएंगे। मैंने सभी से सुझाव मांगा है। यह कलेक्टरों का नाम अंग्रेजों के समय से नाम चल रहा है तो मैंने कहा यह क्यों कलेक्टर होना चाहिए। मैंने कलेक्टरों से ही कहा है कि क्या नाम होना चाहिए। डीसी क्या होता है यह भी मुझे नहीं चाहिए। डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेटर ऐसा नाम होना चाहिए जो आज के जमाने के लिए हो।