सरकारी कर्मचारियों को लेकर सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा, नई नगर पंचायत का भी ऐलान

उन्होंने कहा कि दमोह जिले के लिए स्वीकृत एक सीएम राईज स्कूल का नाम महात्मा ज्योतिबा फुले के नाम पर होगा और अब प्रत्येक वर्ष महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती को अलग-अलग स्थान पर धूमधाम से मनाया जायेगा।

cm shivraj singh

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों (MP Government Employees) के लिए अच्छी खबर है।महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी के बाद प्रदेश की शिवराज सरकार (Shivraj Government ने कर्मचारियों को लेकर बड़ा फैसला किया है। सीएम शिवराज चौहान (CM Shivraj Chauhan) ने घोषणा की कि अब हर साल महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती पर शासकीय कर्मचारियों के लिए ऐच्छिक अवकाश रहेगा।

यह भी पढ़े. MP: राज्य शासन का बड़ा फैसला, नगरीय निकायों को मिलेगा लाभ, कमिश्नर-CMO को निर्देश जारी

सोमवार को सीएम  शिवराज सिंह चौहान दमोह में पिछड़ा वर्ग कल्याण के जननायक महात्मा ज्योतिबा फुले की 195 वीं जयंती समारोह में शामिल होने पहुंचे थे। इस मौके पर उन्होंने कई बड़ी घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि दमोह जिले के लिए स्वीकृत एक सीएम राईज स्कूल का नाम महात्मा ज्योतिबा फुले के नाम पर होगा और अब प्रत्येक वर्ष महात्मा ज्योतिबा फुले की जयंती को अलग-अलग स्थान पर धूमधाम से मनाया जायेगा।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की कि  पिछड़ा वर्ग सहित गरीबों, दलितों के उत्थान तथा बालिकाओं की शिक्षा के लिए जो महत्वपूर्ण कार्य महात्मा ज्योतिबा फुले और उनकी धर्मपत्नी  सावित्री बाई फुले ने किये तथा उनके विचारों को दृष्टिगत रखते हुए मध्यप्रदेश सरकार उनकी जीवनी को शैक्षणिक पाठ्यक्रम में शामिल करेगी।  केन्द्रीय राज्य मंत्री  प्रहलाद पटेल की मांग पर मुख्यमंत्री चौहान ने जिले की बटियागढ़ ग्राम पंचायत को नगर पंचायत का स्वरूप दिये जाने की भी घोषणा की।

यह भी पढ़े…MPPSC: 450 से ज्यादा पदों पर निकली भर्ती, 15 अप्रैल लास्ट डेट, मई में परीक्षा, जल्द करें अप्लाई

सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने जिस प्रकार केन्द्रीय पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया हैं, उसी तर्ज पर मध्यप्रदेश सरकार ने भी पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया हैं। महात्मा ज्योतिबा फुले का पूरा जीवन महिलाओं, गरीबों और किसानों के लिए सघंर्ष में बीता। उन्होंने महिला शिक्षा के क्षेत्र में नई क्रांति पैदा की और विधवा विवाह की मुहिम चलाई। यही कारण रहा कि मुम्बई में वर्ष 1888 में हुई किसान सभा में उन्हें महात्मा की उपाधि दी गई।

देश में दो महात्मा

सीएम चौहान ने कहा कि देश में दो ही महात्मा हुए, एक राष्ट्रपिता महात्मा गॉंधी और दूसरे महात्मा ज्योतिबा फुले। धन्य हैं भारत वर्ष जहाँ ऐसे महापुरूष पैदा हुए। महात्मा फुले ने अपने कर्मठ जीवन में जो इतिहास बनाया तथा पिछड़े एवं दलित वर्ग और महिलाओं के हित में जो कार्य किये, उसी का परिणाम है कि मध्यप्रदेश सरकार ने भी उन वर्गों के कल्याण और हित में अनेक योजनाएँ चलाई।

मंत्री की तारीफ

सीएम चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में सभी वर्गों के मेधावी बेटे-बेटियों की उच्च शिक्षा का खर्च भी सरकार वहन करेगी। सभी वर्ग के लाखों विद्यार्थियों को विगत माह सिंगल क्लिक द्वारा स्कॉलरशिप उनके खातें में सीधे पहुँचाई गई हैं। उन्होंने बडी संख्या में उपस्थित पिछड़ा वर्ग के लोगों को संकल्प दिलाया कि महात्मा ज्योतिबा फुले के बताए मार्ग पर चलकर अपनी बेटियों को जरूर पढ़ायें।  बेटियों को सम्मान मिलना चाहिए, उनका असम्मान करने वाले दुराचारियों को छोड़ा नहीं जायेगा, उन्हें कठोर सजा दिलवायी जायेगी। सीएम ने राज्य-मंत्री  रामखेलावन पटेल की प्रशंसा की कि वे मप्र पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के पुनर्गठन का प्रयास कर रहे हैं।