गुलाबी गैंग की कमांडर पर पैसे देकर राजनीति करने का आरोप

पुष्पराज सिंह बघेल//सतना। देश विदेश में प्रसिद्ध पा चुकी गुलाबी गैंग की कमांडर संपत पाल आज अपने ही साथी महिलाओं के आक्रोश का शिकार हुई और उनके साथ न केवल अभद्रता हुई बल्कि मारपीट भी हुई ।आक्रोशित कुछ महिलाओं ने नगरपंचायत के घेराव करने के दौरान इस घटना को अंजाम दिया। साथी महिलाओं का आरोप था कि 500 रुपये का लालच देकर उन्हें धरना प्रदर्शन में ले जाती है और कुछ को पैसा दिया जाता और कुछ को पैसे नहीं मिलते हैं। मारपीट करने वाली महिलाएं पैसा न मिलने से नाराज थी ।ये नजारा चित्रकूट का है। जहाँ गुलाबी गैंग की राष्ट्रीय कमांडर संपत पाल पर उन्ही की साथी महिलाओं ने चप्पल बरसाए।दरअसल, पिछले आठ माह से संपत पाल और उनकी गुलाबी गैंग उत्तरप्रदेश तथा मध्यप्रदेश की राजनीति में सक्रिय हैं। चित्रकूट विधान सभा क्षेत्र में आए दिन ना किसी मुद्दे पर उनका प्रदर्शन होता रहता है। आज नगर पंचायत चित्रकूट में व्याप्त पेयजल संकट और अन्य समस्याओं के समाधान के लिए सैकड़ो महिलाओं के साथ शहर में रैली निकाली गई और नगर पंचायत का घेराव किया गया। जबकि इस प्रदर्शन की कोई प्रशासनिक अनुमति नही थी।

घेराव के बाद ज्ञापन सौंपा गया और उसके बाद गुलाबी गैंग के सदस्यों में विवाद हो गया । संपत पाल के साथ आई महिलाओं ने वादे के मुताबिक पैसा मांगा। जैसा कि पता चला है, संपत पाल ने एक प्रदर्शन पर हर महिलाओं को पांच पांच सौ देने का वादा किया था, मगर कुछ महिलाओं को पैसा नही मिला। फिर क्या था कुछ गुलाबी गैंग दो भागों में बटी और हंगामा शुरू हो गया। संपत पाल रौब दिखाते नाराज महिलाओं के सामने आ गई। जहां महिलाओं ने उनसे हाथापाई शुरू कर दी। मारपीट करने वाली महिलाओं ने खुलासा किया है कि संपत पाल लालच देकर अपनी नेतागिरी कर रही हैं और अपना काम निकाल रही है।

हालांकि इस मामले की अभी कोई पुलिस शिकायत नही की गई है और न ही प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था में पुलिस मौजूद थी। करीब तीन घंटे तक राजौला से रामघाट तक जाम लगा रहा ।इस घटना के बाद संपत पाल भूमिगत हो गई।