इंदौर। आकाश धौलपुरे। 

जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार नही थी तब कांग्रेसियों के मतभेद सार्वजनिक स्थानों से जगजाहिर हुआ करते है और अब जब 15 साल बाद सत्ता हाथ मे आई तो भी कांग्रसियों के मतभेद खुलकर सामने आ रहे है। दरअसल, मामला इंदौर का है जहां आज कांग्रेस के 134 वें स्थापना दिवस पर स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान किया गया लेकिन इसके पहले एक ऐसा विवाद हो गया जिसके चलते बीजेपी को चुटकी लेने का मौका मिल गया। बताया जा रहा है कि इंदौर के कांग्रेस कार्यालय गांधी भवन में कांग्रेसी स्थापना दिवस की खुशियां मनाने के लिए उत्साहित थे। इसी बीच मंच पर शहर कांग्रेस के अध्यक्ष सहित अन्य बड़े नेता पहुंचने लगे इतने में मंच के नीचे एक विवाद शुरू हो गया ये विवाद था राजीव विकास केंद्र प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र सिंह यादव और कार्यकर्ता अशोक नालिया के बीच शुरू हो गया। देवेंद्र यादव का गुस्सा तो सिर चढ़कर बोला और उन्होंने अशोक नालिया को मारपीट की धमकी देकर गाली गलौज कर आरोप लगाया  अवैध बोरिंग के कारोबार करने का आरोप लगाया। इस बीच कुछ कार्यकर्ताओ ने भी अशोक नालिया पर दबाव बनाया और शिकायत की शहर कांग्रेस अध्यक्ष को। इसके बाद अध्यक्ष भी नालिया से नाराज हुए। कांग्रेस कार्यकर्ता सनी राजपाल ने बताया कि विवाद की शुरुआत उस समय जब मुख्य कार्यक्रम से अलग फोटोबाजी को लेकर अशोक नालिया और उनके साथियों ने थाली और लौटा लेकर खुद सेनानियों के पैर धोने का काम करने लगे लिहाजा देवेंद्र सिंह यादव ने ऐसा करने पर अशोक नालिया पर अनुशासनहीन कार्य बताकर उन पर सवाल उठाए। इधर, देवेंद्र सिह यादव ने कहा कि आम कांग्रेसी से ऐसी अनुशासनहीनता बर्दाश्त नही की जाएगी। इधर, मामले ने इतना तूल पकड़ लिया कि अब अशोक नालिया के बोरिंग मशीन के कारोबार पर सवाल उठ रहे है ऐसे में आने वाला समय उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर सकता है और ये ही वजह है कि विवाद पर विराम लगने के बाद उन्होंने अपनी तरफ से कुछ नही किया। इधर, कुछ जमीनी कार्यकर्ताओ का आरोप है कि जब सरकार नही थी तब अशोक नालिया जैसे कार्यकर्ता दिखते नही थे और अब जब सरकार है तो ख्याति बंटोर कर अपना काम चला रहे है।