ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

कोरोना महामारी के बीच मध्य प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों की तैयारी भाजपा और कांग्रेस ने अपने अपने स्तर पर शुरू कर दी। इसी क्रम में आज मंगलवार को कांग्रेस ने ग्वालियर में एक मास्क लाँच किया जिसपर नया नारा लिखा “बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए, फिर से कमलनाथ सरकार चाहिए”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री एवं ग्वालियर पूर्व विधानसभा के प्रभारी पीसी शर्मा इन दिनों ग्वालियर प्रवास पर हैं। सोमवार को उन्होंने ब्लॉक, मंडल, और सेक्टर पर जाकर पार्टी की व्यवस्थाएँ देखी और कार्यकर्ताओं से बात की और आज मंगलवार को कांग्रेस कार्यालय पर मीडिया से बात की। पूर्व मंत्री ने कहा कि जब से शिवराज सरकार आई है प्रदेश के हालात खराब हो गए हैं। महंगाई चरम पर है, जनता, किसान, युवा, व्यापारी सब परेशान हैं। पहले इनका ध्यान 22 विधायकों को तोड़कर ज्योतिरादित्य सिंधिया को अपनी पार्टी में मिलाकर कमलनाथ सरकार गिराने में रहा। एक महीने तक शिवराज सिंह अकेले मंत्रिमंडल में रहे, फिर पांच मंत्री बना दिया, उसके बाद दबाव के बीच मंत्रिमंडल बनाया उसमें भी विभागों को लेकर खींच तान रही। अभी भी इनके अंदर घमासान मचा है। शिवराज सरकार को ना जनता की चिंता है ना कोरोना की।

पूर्व मंत्री ने कहा कि आज ये वर्चुअल बैठक कर रहे हैं क्या इनके पास कोई सीनियर मंत्री नहीं है जो बैठक ले सके। सब काम मुख्यमंत्री को खुद करने हैं किसी पर भरोसा नहीं है। उन्होंने कहा कि जो लोग बिक गए वो बिकाऊ थे अब जो बचे गैं वो टिकाऊ हैं। इसलिए अब हमारा नया नारा है “बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए, फिर से कमलनाथ सरकार चाहिए”। पूर्व मंत्री ने नारा लिखा मास्क आज ग्वालियर में मीडिया के साथ लाँच किया। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता एवं ग्वालियर चंबल मीडिया प्रभारी केके मिश्रा, प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक सिंह सहित पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

गौरतलब है कि ग्वालियर चंबल अंचल ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाला क्षेत्र है और सिंधिया के साथ जो 22 विधायक कांग्रेस छोड़कर गए थे उनमें से 16 इसी अंचल से हैं इसलिए भाजपा और कांग्रेस दोनों का फोकस ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर है।