कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने कमिश्नर को जताया आक्रोश, सज्जन सिंह वर्मा बोले- पार्टी के विधायकों को किया जा रहा दरकिनार

कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने कमिश्नर से मुलाकात की। जिसके बाद कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने मीडिया से बात करते हुए बीजेपी पर जमकर हमला बोला।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। कोरोना संकट (Corona Crisis) के दौर में सरकार और प्रशासन द्वारा किये जा रहे कार्यों पर कांग्रेस (Congress) लगातार सवाल उठा रही है। कांग्रेस के दिग्गज नेता सज्जन सिंह वर्मा (Congress Sajjan Singh Verma) ने कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल की संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा से हुई मुलाकात के बाद मीडिया को बताया कि हमने कमिश्नर से कहा कि वो अपनी शक्ति पहचाने और इसका पता लगाएं कि संभाग और जिले में क्या हो रहा है। वहीं उन्होंने विधायकों के अधिकारो को लेकर कमिश्नर को कहा कि कोविड संकट के दौर में 6-7 क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी (Crisis Management Commeetti) की बैठक हो गई लेकिन कांग्रेस के विधायक संजय शुक्ला (Congress MLA Sanjay Shukla) और विशाल पटेल (MLA Vishal Patel) को कभी नहीं बुलाया गया।

यह भी पढ़ें:-सीएम शिवराज सिंह बोले-गांव और शहर में सर्वे करवा छुपे मरीजों की करें पहचान

कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि अधिकारी बीजेपी की चापलूसी करने में लगे है और वो दिखाना चाहते है कि हम कांग्रेस के विधायकों को नहीं बुला रहे है। उन्होंने कहा कि कलेक्टर से लेकर सारे अधिकारी ये समझते है कि सारी विद्वता बीजेपी के विधायकों और आरएसएस के लोगों में घुस गई है। पात्र विधायकों को न बुलाकर कैलाश विजयवर्गीय और हारे हुए विधायक, बीजेपी नगर अध्यक्ष, आरएसएस के लोग क्राइसेस कमेटी की बैठक में आ रहे है। लेकिन बदलाव की आहट अधिकारी नहीं समझ पा रहे है।

लोगों को मेंढक बनाने वाले अधिकारियों पर हो कार्रवाई
देपालपुर के तहसीलदार बजरंग बहादुर द्वारा किये गए पिटाई कांड को लेकर भी कांग्रेस ने संभागायुक्त को शिकायत की है। सज्जन वर्मा ने कहा कि मीडिया ने देशभर में दिखाया की किस तरह लात मारते हुए मेंढक बैठक लगवाते हुए लोगो को ले जाया जा रहा था। ये मानवीयता नहीं है और ऐसा अधिकारी एक मिनिट में सस्पेंड हो जाना चाहिये जबकि हम लोग तो एक फोन पर ये कर देते। उन्होंने कहा कि प्रशासन और सरकार की वर्किंग होनी चाहिये कि समस्या आये और उस पर तुरंत कार्रवाई हो।

कमिश्नर को सज्जन सिंह वर्मा की सलाह
कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने लंबे कोरोना कर्फ्यू का जिक्र करते हुए कहा कि एक टाइम का कुआं खोदकर एक टाइम का खाने वाले मजदूर की दशा तो घरों में जाकर देखना चाहिए उनके घर राशन पहुंच रहा है या नहीं। अगर पहुंच भी रहा है तो उस राशन में बीजेपी का ठप्पा लगाकर बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा पहुंचाया जा रहा है। सहायता में भी बीजेपी कांग्रेस किया जा रहा है। ऐसे में कमिश्नर देखे और जो वास्तव में पात्र है जिनके पास पर्ची नहीं उनके घर घर तक राशन पहुंचना चाहिए। वही कर्फ्यू में राशन दुकानो पर लग रही भीड़ को लेकर वर्मा ने कहा कि जब दूध के लिए समय निर्धारित किया गया है तो राशन की दुकान भी उतने समय के लिए खोल दी जाए तो ये भीड़ बढ़ेगी नहीं। वहीं उन्होंने खरीदी के लिए महिलाओं को छूट देने की बात कर कहा कि महिलाएं किराना दुकान पर जाए। ऐसे में क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों को बुलाया जाता तो ये सुझाव कारगर सिद्ध होते।

बीजेपी ने फैलाया कोरोना : सज्जन सिंह वर्मा
सज्जन सिंह वर्मा ने बीजेपी पर कोरोना फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि दमोह उपचुनाव और बंगाल उपचुनाव में इन दुष्टों ने कोरोना महामारी फैला दी। उन्होंने बताया कि हमने कमिश्नर से कहा कि उनकी राय मानोगे तो व्यवस्था ठीक नहीं होगी। हम जैसे लोगो की राय मानो तो व्यवस्था ठीक होगी। दमोह चुनाव को लेकर सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बीजेपी वाले लोग खतरनाक है। कलेक्टर से उन्होंने कहा कि पोलिंग बूथ पर कब्जा करवा दो, तब कलेक्टर ने कहा कि मैं कब्जा नहीं करवाऊंगा ईमानदारी का चुनाव होगा। अब उस बेचारे कलेक्टर की क्या गलती तुम्हारी पार्टी में ही इतना बवाल मचा है, अंतर्कलह, अंतर्विरोध है और जनता बीजेपी की नीतियों को समझ गई। उन्होंने कहा कि पूरे देश मे कोरोना का तांडव हो रहा है, ये पीएम नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की देन है और उसी के खिलाफ जनता ने वोट डाला है। ऐसे में एमपी के आईएएस और आईपीएस अधिकारियो को समझ में आ रहा है कि बदलाव की आहट है समझ जाओ। वहीं उन्होंने बंगाल हार पर कहा कि विजयवर्गीय को तय करना चाहिए वो बंगाल में न जाये क्योंकि वहां पर दीदी है। ये बात उन्होंने 2 माह पहले वीडियो के जरिये कह भी दी थी।