इस सीट पर 30 साल से कांग्रेस को जीत का इंतजार, दिग्विजय हो सकते हैं उम्मीदवार

Congress-may-field-Digvijaya-Singh-from-Bhopal-in-Lok-Sabha-polls

भोपाल। मध्य प्रदेश की सभी 29 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस पार्टी के सर्वे की रिपोर्ट मुख्यमंत्री कमलनाथ को सौंप दी गई है। कांग्रेस बीते 30 साल से भोपाल लोकसभा सीट पर जीत की तलाश कर रही है। वह इस बार यहां से कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को मैदान में उतार सकती है। वहीं, विधानसभा में टिकट नहीं मिलने के बाद अब भोपाल से बीजेपी मैयर और वरिष्ठ नेता आलोक शर्मा का नाम सामना आ रहा है। 

सूत्रों के मुताबिक दो मार्च को दिल्ली में उम्मीदवारों के नामों पर मंथन के लिए एक बैठक आयोजित की जा सकती है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का मानना है कि इस सीट के लिए दिग्विजय सिंह कद्दावर उम्मीदवार हैं। कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने बताया है कि राजधानी की उत्तर विधानसभा से मंत्री आरिफ अकील और मंत्री पीसी शर्मा दिग्विजय के काफी खास हैं। भोपाल में इस बार कांग्रेस को तीन सीटों पर जीत मिली है। वहीं, बीजेपी की जिन सीटों पर जीत मिली है उनका अंतर काफी कम है। 

मुख्ययमंत्री बनने से पहले दिग्विजय सिंह राजगढ़ से सांसद रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक उन्हें इन दोनों सीटों पर इस बार फैसला लेना है कि वह कहां से चुनाव लड़ना चाहते हैं। वहीं, एक और नाम सर्वे में सामने आया है। दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित का नाम भी इस सीट से सामने आया है। वहीं, खजुराहो सीट से पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की कैबिने में मंत्री रहे एक नेता की पत्नी को कांग्रेस की ओर से टिकट मिल सकता है। गुरूवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खजुराहो, सीधी और भिंड के जनप्रतिनिधियों से चर्चा की है। सूत्रों का कहना है कि आम चुनाव से पहले कांग्रेस से खफा होकर बीजेपी में शामिल हुए नेता अब घर वापसी की राह देख रहे हैं।

इंदौर से जीतू का नाम रेस में शामिल

खेल और युवा कल्याण मंत्री जीतू पटवारी का नाम अभी भी इंदौर लोकसभा सीट के लिए सबसे अधिक लोकप्रिय है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि जीतू यहां से चुनाव लड़ने के लिए काफी इच्छुक हैं। लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सख्त हिदायत देते हुए कहा है कि इस बार लोकसभा चुनाव में कोई भी वर्तमान विधायक या मंत्री चुनाव नहीं लड़ेगा। सूत्रों का कहना है कि अगर जीतू को पार्टी टिकट देने से मना करती है तो उनकी पत्नी रैनुका के लिए वह टिकट की मांग करेंगे।