P.Nrarhari
P.Nrarhari

भोपाल।

भोपाल में स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव के कोरोना संक्रमित हो जाने के बाद अधिकारियों के बीच हड़कंप मच गया है। शुक्रवार को सचिव की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से पहले तक वो सभी प्रमुख बैठकों में शामिल होती रही हैं। जिसके कारण सभी पर संक्रमण के खतरे को देखते हुए उन्हें घर में होम आइसोलेट रहने की हिदायत दी गई है। वहीं कुछ लोग जो अभी भी मंत्रालय का भ्रमण कर रहे हैं। उन्हें कम से कम लोगों के संपर्क में आने के लिए कहा गया है। उन सब को यह निर्देश दिए गए हैं कि वह घर पर ही रह कर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कार्य करें। इसी बीच जनसंपर्क सचिव पी नरहरि ने साफ कहा है कि सरकार आईसीएमआर गाइडलाइन के मुताबिक अफसरों के सेकंड लाइन की तैयारी कर रही है। ताकि जरूरत पड़ने पर अन्य अधिकारियों की तैनाती की जाए।जनसंपर्क सचिव ने कहा है कि पदस्थ विभाग प्रमुख अचानक बीमार हो जाये या 24 घंटे में अत्याधिक कार्य की वजह से अस्वस्थ हो जाए या किसी अन्य कारण से उनकी उपलब्धता संभव नहीं हो, तो ऐसी स्थिति में उनके स्थान पर आवश्यकतानुसार सेकेंड लाइन में अन्य अधिकारी की तैनाती की जा रही है।

जनसंपर्क सचिव ने बताया कि सरकार ने 14 अफसरों का सेकंड लाइन चार्ट बनाया है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव पल्लवी जैन की जगह राजेश राजौरा, आईसीपी केसरी की जगह मोहम्मद सुलेमान, फैज अहमद किदवई की जगह नितेश व्यास, संजय दुबे की जगह उमाकांत उमराव, शिव शेखर शुक्ला की जगह दीपाली रस्तोगी, छवि भारद्वाज की जगह टी इलैयाराजा, निशांत बरबड़े की जगह संदीप यादव, स्वाति मीणा की जगह विवेक पोरवाल, संजय शुक्ला की जगह डीपी आहूजा, अनुराग जैन की जगह मनोज गोविल, मोहम्मद सुलेमान की जगह मनु श्रीवास्तव, मनोज श्रीवास्तव की जगह अशोक वर्णवाल और नंदकुमार इनकी जगह चंद्रशेखर बोरकर को सेकंड लाइन में अधिकारियों की जगह पर तैनाती की जाएगी। जनसंपर्क सचिव ने कहा कि प्रदेश में व्यवस्था की निगरानी में कोई अड़चन ना आए इसके लिए यह कदम उठाए गए हैं।