बेंगलुरु में बागी विधायकों की हुईं कोरोना टेस्टिंग, जल्द आ सकते हैं भोपाल

बेंगलुरु/भोपाल।

विधानसभा क्षेत्र के स्थगित होने देता कमलनाथ सरकार(kamalnath government) की परेशानियों के बीच कांग्रेस(congress) के बागी विधायक भी भोपाल(bhopal) आने की तैयारी में है। इससे पहले बेंगलुरु में उनकी कोरोना टेस्टिंग(corona testing) होगी। जहां टेस्टिंग के बाद विधायक सर्टिफिकेट(certificate) लेकर वापस आएंगे। इन 16 विधायकों की फौज बेंगलुरु के रमादा होटल में रुकी है। जहां पर कोरोना टेस्टिंग के लिए डॉक्टरों की टीम पहुंची है। विधायक बेंगलुरु से विधानसभा की कार्रवाई देख रहे हैं।

दरअसल कांग्रेस के बागी विधायक अभी तक बेंगलुरु में है। जहां से वह कभी भी भोपाल आ सकते हैं। इसके लिए अब उनका कोरोना टेस्ट किया जा रहा है।जिसकी टेस्टिंग(testing) के बाद वो फिट हैल्थ का सर्टिफिकेट लेकर भोपाल पहुंचेंगे। इससे पहले रविवार को उन विधायकों(mlas) को गोल्फशायर रिसोर्ट से रमादा रिसोर्ट में बुला लिया गया था। जहां कर्नाटक(karnataka) पुलिस मुस्तैदी से उनके साथ है। उस रिसोर्ट(resort) में किसी भी अनाधिकृत व्यक्ति के प्रवेश पर रोक है। रिसोर्ट में मनोरंजन के लिए स्विमिंग, राइडिंग और मेडिटेशन जैसी व्यवस्था भी है। जहां इन विधायकों के साथ भाजपा के तीन नेता अरविंद भदौरिया उमाशंकर गुप्ता और सुदर्शन गुप्ता भी उस रिसोर्ट में मौजूद थे। ये तीन ही उन विधायकों के साथ बीजेपी के हाईकमान की संपर्क करवा रहे हैं। वही सिंधिया के करीबी पुरुषोत्तम पराशर के द्वारा विधायकों की बात लगातार सिंधिया से भी हो रही है। माना जा रहा है कि पुरुषोत्तम सिंधिया के निर्देश का ही पालन कर रहे हैं। वही रिसोर्ट में मौजूद सारे कांग्रेसी विधायकों के फोन बंद है। बता दें कि इससे पहले जयपुर से वापस भोपाल लौटे कांग्रेसी विधायकों का भी कोरोना टेस्ट करवाया गया था। वहीं इससे पहले मंत्री पीसी शर्मा ने कहा था कि बाहर गए सभी विधायकों का कोरोना टेस्ट होना जरूरी है। वहीं दूसरी तरफ आ रही खबर के मुताबिक कांग्रेस के विधायकों को लाने के लिए तीन चार्टर्ड प्लेन तैयार किए गए हैं। जैसे ही ज्योतिरादित्य सिंधिया और बीजेपी नेताओं का इशारा मिलता है बागी विधायक भोपाल के लिए रवाना हो जाएंगे।

गौरतलब हो कि अगर प्रदेश में फ्लोर टेस्ट की स्थिति बनती है तो इन कांग्रेस के विधायकों को भोपाल बुलाया जा सकता है। अब देखना दिलचस्प होगा कि ये बागी विधायक सत्ता को किस करवट ले जाते हैं