चोर, डकैतों, भगोड़ों को मिल गए नए संरक्षक, मोदी है तो सब संभव है : दिग्विजय

भोपाल। मोदी हैं तो सब कुछ संभव है… चोर, डकैतों, भगौड़ों को नरेन्द्र मोदी और अमित शाह के रूप में नए संरक्षक मिल गए हैं। महाराष्ट्र में जो हो रहा है, वह पूरी तरह असंवैधानिक है, जिसका विरोध किया जाना चाहिए। भाजपा के दबाव में काम कर रहे राज्यपाल ने एनसीपी के विधायकों के हस्ताक्षरयुक्त समर्थन की चिठ्ठी देखे बिना ही नई सरकार को हरी झंडी दे डाली है, इससे बड़ा संविधान का मखौल कुछ नहीं हो सकता।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शनिवार को भाजपा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और महाराष्ट्र में जारी सियासी हलचलों पर कई सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि भाजपा ने शिवसेना के साथ वादा खिलाफी की है। पहले फिफ्टी-फिफ्टी के फार्मूले पर बात कर उसने अपने फायदे के लिए अपनी ही बात से किनारा कर लिया है। दिग्विजय सिंह ने शिव सेना से अपील करते हुए कहा कि शिवसेना के लिए चुनौती है, अब उद्धव ठाकरे को संविधान की रक्षा के लिए अपनी ताकत को सड़क पर उतरकर बताना चाहिए। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में संविधान का मखौल उड़ाया गया है, रातों रात क्या हुआ पता नहीं। उन्होंने कहा कि शिवसेना सड़कों पर उतरे, कांग्रेस उनका पूरा साथ देगी। दिग्विजय सिंह ने कहा कि महाराष्ट्र के हालात देखते हुए इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि वहां अब हॉर्स ट्रेडिंग का गंदा खेल शुरू होने वाला है। इस स्थिति को देखते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने विधायकों को भोपाल में शिफ्ट करेगी। महाराष्ट्र कांग्रेस के सभी विधायक कुछ दिनों तक भोपाल में रहेंगे। दिग्विजय ने दावा किया है कि अजीत पवार के साथ एनसीपी का कोई विधायक नहीं जाएगा, वे अकेले गए हैं। उन्होंने कहा कि राजभवन बहुमत दिखाने का स्थान नहीं है, बहुमत विधानसभा मं दिखाया जाना चाहिए।