कलेक्टर विहीन जिले को लेकर दिग्विजय का CM पर तंज-‘Tiger इतना मत डरो’

अशोकनगर। हितेन्द्र बुधौलिया।

बीते 11 दिन से बिना कलेक्टर के चल रहा है अशोकनगर जिला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बिना कलेक्टर के चल रहे अशोकनगर जिले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर तंज कसा है। दिग्विजय सिंह द्वारा किए गए ट्वीट में उन्होंने सिंधिया जी द्वारा सही अधिकारी ना मिलने एवं प्रशांत जी एवं पाराशर जी का नाम उल्लेख करके लिखा है , कि इनकी खोज में कोई अफसर पास नहीं हो पा रहा।आगे दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के लिये लिखा है कि Tiger शिवराज इतना मत डरो।

उल्लेखनीय है कि 30 जून को अशोकनगर की कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा सेवानिवृत्त हो चुकी है। 11 दिन से अशोकनगर बिना कलेक्टर के चल रहा है। यह बड़ा मुद्दा है, क्षेत्रीय स्तर पर भी कलेक्टर के ना आने को लेकर सरकार एवं स्थानीय जनप्रतिनिधि लोगों के निशाने पर रहे हैं । चर्चा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के हस्तक्षेप के कारण सरकार यहां कलेक्टर की नियुक्ति नहीं कर पा रही ।इस मुद्दे को आज पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कर हवा दी है।
मंत्री परिषद बनने के बाद विभागों के बटवारा ना हो पाने के पीछे सिंधिया एवं सरकार की तनातनी को सामने लाने के कॉन्ग्रेस के प्रयासों में साथ ही कलेक्टर विहीन अशोकनगर जिले के मुद्दे पर सिंधिया एवं शिवराज सिंह के बीच तनातनी का मामला बता कर राजनैतिक माहौल गर्म करने का प्रयास किया है।जिसमें अधिकारियों की नियुक्तियों में सिंधिया की मनमानी को लेकर इशारा किया गया है।

दिग्विजय सिंह के ट्वीट में स्पष्ट होता है कि अशोकनगर का कलेक्टर सिंधिया जी के कारण नहीं बन पा रहा, साथ ही उन्होंने इसके लिए उनसे जुड़े 2 लोग प्रशांत एवं पाराशर का नाम उल्लेखित किया है। जिसमें लिखा है कि जब यह लोग सही अधिकारी की खोजबीन करके सिंधिया को दे देंगे तब जाकर अशोकनगर जिले को कलेक्टर मिल पाएगा। इतना ही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने खुद को टाइगर कहने वाले शिवराज सिंह चौहान को भी आड़े हाथों लिया है ।ट्वीट के आखिरी में उन्होंने लिखा है कि टाइगर शिवराज इतना मत।

उल्लेखनीय है कि किसी भी जिले में कलेक्टर सहित अन्य अधिकारियों की नियुक्ति का मामला सीधे मुख्यमंत्री से जुड़ा होता है ।मगर 11 दिन के बाद भी अशोकनगर जिले में कलेक्टर की नियुक्ति ना हो पाने के पीछे चर्चाएं थी, अब देखना होगा कि दिग्विजय सिंह के ट्वीट के बाद क्या अशोकनगर को कलेक्टर मिल पाता है ?और क्या शिवराज सिंह चौहान बिना सिंधिया की मर्जी के कलेक्टर की नियुक्ति कर पाते हैं? या फिर सिंधिया अपनी पसंद का कोई नाम कलेक्टर के लिए सिफारिश कर सकते हैं ?