कर रहा था विद्युत् पोल चोरी, मिल गई सलाखें

MP News : आपने चोरी  के कई किस्से सुने होंगे जिसमें चोरों के बड़े बड़े कारनामे भी सुने होंगे, हम भी आपको आज चोर का  एक ऐसा ही कारनामा बताने जा रहे हैं जो शायद ही पहले आपने सुना होगा, जी हाँ हां बात कर रहे हैं ऐसे साहसी चोर की जिसने अपने चार साथियों के साथ बिजली के खंबे को चोरी करने का प्रयास किया लेकिन पकड़ा गया और हवालात पहुँच गया।

गैस कटर से काट रहा था विद्युत् पोल  

चोरी का ये मामला मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के गुना संचारण संधारण संभाग के पगारा वितरण केंद्र का है, जहाँ  कंपनी के कनिष्ठ यंत्री पी सी जैन ने विद्युत पोल को गैस कटर से काट कर चोरी कर ले जाने के मामले में आरोपियों को रंगे हाथो पकड़ा है। श्री जैन ने एक आरोपी को विद्युत पोल सहित थाने के सुपुर्द किया, उसके साथी फरार हो गए। विद्युत पोल चोरी के मामले में पुलिस ने अधिनियम 1860 की धारा 379 (ए) के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर जांच में लिया है।

पांच चोर काट रहे थे पोल, एक को इंजीनियर ने पकड़ा, शेष फरार 

विद्युत कंपनी के कनिष्ठ यंत्री पी सी जैन पुलिस को बताया कि गुना अशोकनगर रोड पर पगारा गाँव के पहले विद्युत कंपनी के 13 मीटर. दो एच. बीम खडे़ हुए थे। 18 मई को शाम 4 बजे चोरी की नीयत से हरवीर रजक पुत्र जुगराज सिंह रजक निवासी घोसीपुरा तथा 4 अन्य लोगों द्वारा गैस कटर से एच.बीम के खम्बे काटकर ट्रेक्टर ट्राली से ले जाने की तैयारी की जा रही थी। मौके पर पी.सी. जैन द्वारा हरवीर रजक को ट्रेक्टर सहित पकड़ लिया गया और 4 अन्य आरोपी भाग गये।

बिजली कंपनी के एमडी ने की इंजीनियर की प्रशंसा 

विद्युत पोल चोरी के आरोपी हरवीर रजक ने भागे हुए 4 अन्य आरोपी का नाम रामा जाटव, नितिन जाटव, अनिल जाटव, हनीफ मुसलमान बताया है। चोरी किये गये लोहे के एच.बीम की कीमत करीबन 80 हजार रूपये है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक गणेश शंकर मिश्रा ने इस साहसिक कार्य के लिए कनिष्ठ यंत्री पी सी जैन की प्रशंसा की है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News