ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर की दरियादिली, बुजुर्ग ठेला चालक की मदद करने खुद धकाया ठेला, दिए 10 हजार रुपए

जब मंत्री से इस बारे में पूछा गया तो उनका कहता था कि बुजुर्ग की उम्र 70 साल है। और इस उम्र में लोग रिटायर हो जाते हैं। और उस उम्र में बुजुर्ग वजन उठाकर ठेला ढकेल रहा था। जिससे मेरे मन में लगा और मैंने उसकी मदद की।

गुना, डेस्क रिपोर्ट । मप्र (MP) के ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar) की दरियादिली से तो पूरा प्रदेश वाकिफ है। मंत्री तोमर अपने अलग अंदाज के लिए भी जाने जाते हैं। वो कभी कचरा साफ करने के लिए नाली में उतर जाते हैं। तो कभी टॉयलेट साफ करते भी दिखते हैं। और ऐसा ही कुछ देखने को मिला गुना (Guna) में। जहां मंत्री ने एक बुजुर्ग की ठेला लगाने में मदद की और उसे चाय-नाश्ता भी करवाया। वहीं अपने हाथों से पानी भी पिलवाया।

यह भी पढ़ें… जबलपुर में कोरोना का अलर्ट अलार्म, सावधानी सतर्कता बेहद ज़रूरी

दरअसल मंत्री गुना जिले में आयोजित ध्वजारोहण के कार्यक्रम में पहुंचे थे और कार्यक्रम समाप्त होने के बाद वापस लौट रहे थे। जहां उन्हें एक वृद्ध व्यक्ति कड़ी धूप में ठेले पर लकड़ी की सिल्लियां ले जाते हुए देखा। और जैसे ही उस व्रत व्यक्ति पर मंत्री तोमर की नजर पड़ी तो उन्होंने अपनी गाड़ी रुकवा कर ना सिर्फ वृद्ध ठेले चालक के ठेले को धक्का लगाया बल्कि उसे बिठाकर पानी भी पिलाया। इतना ही नहीं साथ ही साथ बुजुर्ग को 10 हजार रूपए की मदद भी की।

जिस वृद्ध की मंत्री तोमर ने मदद की उसका नाम अशोक राठौर है। और वह ठेला चलाने का काम करता है। रोज की तरह हो अपने काम पर गया था जहां ठेले पर लकड़िया लेकर हनुमान चौराहे से जा रहा था। और उसी समय वहां से मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर का भी निकलना हुआ। और जैसे ही एक वृद्ध को इतनी गर्मी में मेहनत करते देखा तो मंत्री तोमर से रहा नहीं गया और उन्होंने अपनी गाड़ी रुकवाई और उसकी मदद के लिए उतर गए। मंत्री तो मरने पहले बुजुर्ग से बात की और फिर कुछ दूर तक ठेला धकेला और सड़क किनारे लगाया। और वहां पर बिठाकर बुजुर्ग को चाय नाश्ता कराया।और 10 हजार की स्वेच्छा अनुदान राशि दी।  वहीं मंत्री को धक्का लगाते देख उनके साथ और भी लोगों ने ठेले को धक्का लगाया।

जब मंत्री से इस बारे में पूछा गया तो उनका कहता था कि बुजुर्ग की उम्र 70 साल है। और इस उम्र में लोग रिटायर हो जाते हैं। और उस उम्र में बुजुर्ग वजन उठाकर ठेला ढकेल रहा था। जिससे मेरे मन में लगा और मैंने उसकी मदद की।