ऊर्जा मंत्री का बड़ा बयान- बिजली कर्मचारियों के वेतन और मांगों पर करेंगे विचार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बिजली कर्मचारियों (Electrical Workers) को लेकर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का बड़ा बयान सामने आया है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा है कि ऐसी माँगें, जिनमें वित्तीय कठिनाई निहित है, उन पर अलग से विचार करेंगे।आईटीआई योग्यता के कर्मचारियों को कुशल कर्मचारी का वेतन दिलाने और बीमा में वृद्धि पर विचार किया जायेगा।

यह भी पढ़े.. MP के इन दो युवा नेताओं को नड्डा ने सौंपी बड़ी जिम्मेदारी, वीडी शर्मा ने दी बधाई

दरअसल, सोमवार को ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar) ने विद्युत कर्मचारी संगठनों से चर्चा की और कहा कि जनता की सुविधाओं को सर्वोपरि प्राथमिकता दें। कर्मचारियों की समस्याओं पर चर्चा करने के लिये हर महीने बैठक करेंगे। विद्युत कर्मचारी संगठनों द्वारा उठाई गई माँगों पर एक महीने के अंदर समुचित कार्यवाही की जायेगी। ऐसी माँगें, जिनमें वित्तीय कठिनाई निहित है, उन पर अलग से विचार करेंगे।

ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि आउटसोर्स कर्मचारी (outsource staff)को निर्धारित प्रक्रिया के द्वारा ही हटाया जा सकेगा। इन्हें अकारण नहीं हटाया जायेगा। आईटीआई (ITI) योग्यता के कर्मचारियों को कुशल कर्मचारी का वेतन दिलाने और बीमा में वृद्धि पर विचार किया जायेगा। कोविड से हुई मृत्यु पर समय-सीमा में अनुकम्पा नियुक्ति (Compassionate appointment) दिलाई जायेगी।

यह भी पढ़े.. Transfer : मध्य प्रदेश के जेल विभाग में तबादले, यहां देखिये लिस्ट

ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि हड़ताल इस बात की करें कि वसूली ज्यादा हो और रख-रखाव में सुधार हो। इसके साथ ही अपनी माँग भी रखें। उन्होंने कहा कि मैं आपकी समस्याओं से वाकिफ हूँ और आपके हितों का पूरा ध्यान रखूंगा। उन्होंने संगठन के पदाधिकारियों से हड़ताल पर नहीं जाने का भी आग्रह किया। मंत्री तोमर को कर्मचारी संगठन के पदाधिकारियों ने अपनी माँगों से अवगत कराया।