इंदौर, आकाश धोलपुरे। प्रदेश की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तारीख का ऐलान अभी भले ही ना हुआ हो। लेकिन प्रदेश में चुनावी माहौल इस तरह बन गया है जैसे अगले ही दिन चुनाव होना हो। एक तरफ सिंधिया और शिवराज की जोड़ी ग्वालियर चंबल क्षेत्र में ताबड़तोड़ सभाएं कर कांग्रेस पर हमला बोल रही है। वही कमलनाथ आज सांवेर सीट से कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के समर्थन में जनसभा करने पहुंचे और भाजपा सरकार पर जमकर बरसे । इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अधिकारी बीजेपी का बिल्ला जेब में लेकर ना घूमें, चुनाव के बाद यह वर्दी कहां जाएगी खुद समझ कर रखिएगा।

रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इंदौर की विधानसभा सीट सांवेर में जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा मध्यप्रदेश को शिवराज ने भ्रष्टाचार में नंबर वन बनाया था और मैंने कोशिश की थी निवेश लाने की। ताकि इंदौर आर्थिक गतिविधि का हब बने, मैंने शुरुआत की थी एमपी की नई पहचान बनाने की। देश के उद्योगपतियों को बुलाकर नाटक नहीं किया। मैंने माफिया के खिलाफ खुलकर अभियान चलाया, ऐसे में मैंने कौन सा पाप किया, कौन सा गुनाह किया, कौन सी गलती की में यह जनता से पूछना चाहता हूं। इस दौरान कमलनाथ शासकीय अधिकारियों पर भी बरसे।

भाजपा का बिल्ला जेब में रखकर ना घूमें अफसर

सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ प्रशासनिक अधिकारियों पर जमकर बरसे उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा के समर्थन में काम कर रहे पुलिस और प्रशासन के अधिकारी इस बात का ध्यान रखें कि उपचुनाव के नतीजों के बाद सरकार कुछ और होगी। उन्होंने कहा आईजी हो या डीआईजी हो, अपनी वर्दी की इज्जत करिए नहीं तो इस उपचुनाव के बाद आप की वर्दी कहां जाएगी आप खुद समझ कर रखिएगा। भाजपा का बिल्ला जेब में रखकर मत घूमिए।

भाजपा बोली, हार के डर से बौखला गए कमलनाथ
कमलनाथ द्वारा मंच से अधिकारियों को चेतावनी देने पर भाजपा ने उन पर हमला बोला है। भाजपा नेता दुर्गेश केसवानी ने कहा कि कमलनाथ उपचुनाव में करारी हार के डर से बौखला गए हैं। इसलिए अधिकारियों को मंच से डरा रहे हैं। इस तरह एक पूर्व मुख्यमंत्री की अधिकारियों के लिए ऐसी भाषा शैली ठीक नहीं है। अफसरों को डराने के बजाय कांग्रेस जमीन पर उतरकर संघर्ष करे।