अब ट्विटर पर छिड़ी ‘कर्जमाफी’ की जंग, आमने-सामने CM और पूर्व सीएम

ex-cm-shivraj-and-kamalnath-attack-on-karjmafi-by-tweet-

भोपाल| मध्य प्रदेश में तीसरे चरण के लिए मतदान से पहले कर्जमाफी के मुद्दे पर सियासत तेज हो गई है| एक दूसरे को झूठा साबित करने के लिए भाजपा कांग्रेस एक के बाद एक सबूत सामने ला रहे हैं| पिछले चार दिनों से कर्जमाफी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस के बीच कई घटनाक्रम देखने को मिले| दोनों ही तरफ से अपने दावे किये जा रहे हैं| जहां शिवराज आरोप लगा रहे हैं कि प्रदेश में कर्जमाफी के नाम पर सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है, तो वहीं कांग्रेस शिवराज के आरोपों को झूठा बताकर सबूत के तौर पर प्रमाण दिखा रही है| हालाँकि पूर्व सीएम शिवराज ने अब तक दिए सभी प्रमाणों को फर्जी करार दिया है| इस बीच अब मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज के बीच कर्जमाफी को लेकर ट्विटर पर जंग छिड़ गई है| कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि 21 लाख किसानो के खाते में राशि हमने पहुँचायी है, इस पर शिवराज ने भी पलटवार करते हुए कहा कर्ज़ तो तब माफ माना जायेगा, जब बैंक किसानों को नो ड्यूज़ दे दें। आज तक आपने एक भी बैंक के ‘नो ड्यूज़ सर्टिफिकेट’ नहीं दिखाए। 

दरअसल, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को कर्जमाफी के मुद्दे पर ट्वीट कर शिवराज पर निशाना साधा| नाथ ने लिखा “भले सारे प्रमाण हमने सामने ला दिये है  लेकिन असली मुद्दा क़र्ज़ माफ़ी ही है , किसानो के खाते में राशि आना है। जो हमने किया है। 21 लाख किसानो के खाते में राशि हमने पहुँचायी है। जिसे ख़ुद शिवराज सिंह ने भी स्वीकारा है कि हाँ मेरे भाई का कर्ज़ माफ़ हुआ है”।

शिवराज का पलटवार-कर्जमाफी पर हवा-हवाई बातें कर रही सरकार   

कमलनाथ के ट्वीट के जवाब में पूर्व सीएम शिवराज ने भी पलटवार करते हुए कई ट्वीट किये और सरकार को सवालों में घेरा| उन्होंने लिखा “झूठ पर झूठ, कमलनाथ जी कुछ तो शर्म करो। जब मेरे भाई ने आवेदन ही नहीं दिया तो आपने कर्ज़ा किसका माफ कर दिया? आपने वचनपत्र में कहा था कि आयकरदाता किसानों का कर्ज सरकार माफ नहीं करेगी, मेरा भाई करदाता है, फिर आपने उसका कर्ज़ा कैसे माफ किया? यहां भी झोलझाल!” “कमलनाथ जी, आपकी सरकार के कर्जमाफी का पहला ऑर्डर ही झूठा निकला। आपने वादा किया था कि 2 लाख रुपये तक के किसानों के सभी कर्ज़ माफ होंगे और ऑर्डर जारी हुआ फसली ऋण माफी का। यह किसानों के साथ धोखा नहीं तो क्या है!” शिवराज ने लिखा “कमलनाथ जी, आज तक आपने एक भी बैंक के ‘नो ड्यूज़ सर्टिफिकेट’ नहीं दिखाए। आप अपने प्रमाण पत्र दे रहे हैं, कर्ज़ तो तब माफ माना जायेगा, जब बैंक किसानों को नो ड्यूज़ दे दें।” “सरकार बैंक ट्रांसफर का यूटीआर (Unique Transaction Reference) नंबर दिखाए, जिसके बिना राशि का हस्तांतरण असंभव है। कमलनाथ सरकार कर्जमाफी पर केवल हवा-हवाई बातें कर रही है। किसान प्रदेश की समृद्धि का आधार है, इसको छला तो प्रदेश और देश आपको माफ नहीं करेगा”।

अब ट्विटर पर छिड़ी 'कर्जमाफी' की जंग, आमने-सामने CM और पूर्व सीएम

अब ट्विटर पर छिड़ी 'कर्जमाफी' की जंग, आमने-सामने CM और पूर्व सीएम