BJP प्रदेश कार्यकारिणी- जातिगत समीकरणों पर फोकस, चर्चा में इनके नाम, ऐलान जल्द

ज्योतिरादित्य सिंधिया

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक इमरती देवी (Imrati Devi) और गिर्राज दंडोतिया (Girraj Dandotia) का आज 2 जनवरी को कार्यकाल समाप्त हो रहा है, जिसके बाद दोनों से मंत्री पद छिन जाएगा।वही दूसरी तरफ शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाओं के बीच BJP प्रदेश कार्यकारिणी में नियुक्तियों को लेकर भी अटकलें तेज हो चली है।खबर है कि मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion) के बाद ही प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा (VD Sharma) अपनी टीम का ऐलान कर सकते है, इसमें सिंधिया समर्थकों समेत लंबे समय से पार्टी से असंतुष्ट चल रहे नेताओं को एडजस्ट किया जा सकता है।

यह भी पढ़े… वरिष्ठ BJP नेता और पूर्व विधायक का निधन, पार्टी में शोक लहर

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, नगरीय निकाय चुनाव (Urban Bodies Election) और पंचायत चुनावों (Panchayat Elections) को देखते हुए  नई कार्यकारिणी में जातिगत समीकरण पर फोकस किया जाएगा।इसमें SC-ST और OBC के ज्यादा लोगों और सिंधिया खेमे से केवल 3-4 लोगों को ही जगह मिल सकती है, हालांकि कार्यसमिति की जगह उन्हें मोर्चों में एडजस्ट किया जाएगा। शिवराज कैबिनेट विस्तार के बाद बीजेपी कार्यकारिणी का गठन हो जाएगा। इसको लेकर 3 जनवरी को प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan), प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत और संगठन सह महामंत्री हितानंद शर्मा बैठक करेंगे, जिसमें नामों पर अंतिम मोहर लगाई जाएगी। उम्मीद है कि इसके बाद ही टीम का ऐलान किया जा सकता है।

ये होंगे बाहर

प्रदेशाध्यक्ष की टीम में 10 उपाध्यक्ष और 10 प्रदेश मंत्री की नियुक्ति की जानी है, ऐसे में प्रदेश उपाध्यक्ष अरविंद भदौरिया, उषा ठाकुर और बृजेंद्र प्रताप सिंह को संगठन से बाहर कर दूसरों को मौका दिया जा सकता है।चुंकी ये तीनों वर्तमान में शिवराज कैबिनेट में मंत्री है, ऐसे में 3 पद खाली होंगे जिसमें अन्य को एडजस्ट किया जाएगा।वर्कमान में टीम वीडी में पांच लोग शामिल है, जिसमें महामंत्री भगवान दास सबनानी, रणवीर सिंह रावत, हरिशंकर खटीक,शरतेंद्रु तिवारी, कविता पाटीदार है।

चर्चा में इनके नाम

भोपाल से पूर्व महापौर आलोक शर्मा, शैलेंद्र शर्मा, बुंदेलखंड से लता वानखेड़े, चंबल से संध्या राय, जबलपुर से विनोद मिश्रा और आशीष दुबे, रीवा से दिव्यराज सिंह, शहडोल से हिमांद्री सिंह या नरेंद्र मरावी, निमाड़ से वेल सिंह भूरिया और चेतन कश्यप, होशंगाबाद से माया नारोलिया, रायसेन से नरेंद्र शिवाजी पटेल, भिंड-मुरैना से राघवेंद्र शर्मा या राघवेंद्र गौतम, मंदसौर से विजय आठवाल के नाम चर्चा में बने हुए है।इनको संगठन में शामिल करने की अटकलें तेज है।

5 साल से नहीं बनी टीम

प्रदेश भाजपा में नई टीम करीब 5 साल से नहीं बनी पाई है। फिलहाल वही टीम काम कर रही है जो नंदकुमार सिंह चौहान ने प्रदेश अध्यक्ष रहते बनाई थी। नंदकुमार सिंह चौहान के बाद राकेश सिंह को भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया, पर उन्होंने नई टीम का गठन नहीं किया और विधानसभा चुनाव पास आ जाने से वे पुरानी टीम से ही काम चला रहे थे। अब वीडी शर्मा को भी अध्यक्ष बनने 8 माह से ज्यादा का समय हो गया है, लिहाजा उम्मीद है कि नई टीम का ऐलान जल्द किया जाएगा।

ऐसी हो सकती है नई टीम

खबर है कि शिवराज सरकार हारे मंत्रियों को निगम-मंडलों (Boards of corporations) में जगह देने के साथ ही उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया जा सकता है, जिसमें इमरती देवी को महिला वित्त एवं विकास निगम (Women Finance and Development Corporation) और दंडोतिया को हाउसिंग बोर्ड (Housing board) में जगह मिल सकती है, ताकी मिशन 2023 पर फोकस किया जा सके।सुत्रों की माने तो ज्योतिरादित्य सिंधिया चाहते हैं कि इमरती देवी को 2023 के विधानसभा चुनाव की तैयारियों के लिए लगाया जाए, लेकिन संगठन और संघ कोई भी पद देने से पहले पार्टी की रीति-नीति को समझाना चाहता है, ताकी आने वाले भविष्य में कोई परेशानी ना हो।  वही ऐसे संकेत भी हैं कि मनोज चौधरी या पंकज चतुर्वेदी (Pankaj Chaturvedi) को प्रवक्ता, भांडेर से विधायक रक्षा सिरोनिया (Raksha Sironia) को उपाध्यक्ष बनाया जा सकता है। इससे पहले भगवानदास सबनानी, शारदेंदु तिवारी, रणवीर सिंह रावत, कविता पाटीदार और हरिशंकर खटीक की नियुक्ति कर चुके हैं। लेकिन पार्टी के अन्य बड़े नेताओँ के चहेतों को अपनी पार्टी में शामिल करने का उनपर कोई दबाव नहीं है। हालांकि प्रदेश कार्यसमिति में जाति और क्षेत्रीय संतुलन भी देखने को मिलेगा।