पूर्व CM कैलाश जोशी पंचतत्व में विलीन, ‘राजनीति के संत’ को अंतिम विदाई देने उमड़ा हुजूम

देवास|  मध्य प्रदेश के पहले गैर कांग्रेस मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता कैलाश जोशी का सोमवार को उनके गृह नगर हाटपीपल्या में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ। उनके छोटे बेटे योगेश जोशी ने मुखाग्नि दी। हाटपिपल्या में दोपहर करीब 3 बजे उनके पैतृक निवास पर पार्थिव शरीर पहुंचा। यहां परंपरा का निर्वहन कर पार्थिव देह को दर्शनार्थ रखा गया। यहां पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सहित अन्य नेताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।  

इससे पहले अंतिम यात्रा सोमवार दोपहर उनके निजी निवास से निकाली गई। अंतिम विदाई में केंद्रीय मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर, प्रदेशाध्यक्ष राकेशसिंह, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज, सांसद नंदकुमारसिंह चौहान, विधायक चेतन कश्यप, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री कमल पटेल, ओमप्रकाश सखलेचा, राय सिंह सेंधव, नरेंद्र सिंह राजपूत, सुभाष शर्मा, उमेश शर्मा, पहाड़सिंह, राजेन्द्र वर्मा, दौलत तंवर, फूलसिंह चावड़ा सहित कई नेता और बड़ी संख्या में आमजन शाामिल हुए। जगह जगह लोगो ने पुष्पवर्षा कर श्रद्धांजलि दी। जोशी बाबा अमर रहे के नारे लगाए।  

अंतिम यात्रा में उमड़ा हुजूम 

पूर्व सीएम कैलाश जोशी का रविवार को भोपाल में निधन हो गया था। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे। सोमवार सुबह मध्य प्रदेश भाजपा कार्यालय में उनके पार्थिव शरीर को दर्शन के लिए रखा गया। जहां बड़ी संख्या में भाजपा के बड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। इसके बाद भाजपा कार्यालय से पार्थिव देह को हाटपिपल्या के लिए रवाना किया गया। भोपाल से पार्थिव देह जैसे ही हाटपिपल्या पहुंची, अंतिम दर्शन के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा, अंतिम यात्रा में  रास्तेभर लोग पार्थिव देह पर फूल बरसाते रहे। इस दौरान कई लोगों की आंखें भर आईं।