नतीजों से पहले गौर का बड़ा बयान, ‘हार हुई तो मुखिया जिम्मेदार’

gaur-said-if-bjp-lost-election-whole-party-will-be-accountable-

भोपाल। विधानसभा चुनाव के नतीजों से पहले आये एग्जिट पोल ने प्रत्याशियों की नींद उड़ा दी है, वहीं कुछ अपने निजी फीडबैक के भरोसे हैं और जीत का दावा कर रहे हैं| इस बीच चुनाव के नतीजों से पहले प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि अब यह भाजपा वो पार्टी नहीं है जो हमारे समय में हुआ करती थी। जब जनसंघ हुआ करता था। अब पार्टी में कार्यकर्ताओं की कोई अहमियत नहीं है। अगर भाजपा हारती है तो इसके जिम्मेदार प्रदेश के मुखिया होंगे। 

सरताज का पार्टी में हुआ अपमान

उनसे सवाल पूछा गया कि सरताज सिंह जीत जाते हैं तो क्या उन्हें भाजपा में वापस लिया जाएगा? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरताज का पार्टी में अपमान हुआ है। उन्हें पार्टी से अपमानित किया गया। जिस नेता ने कांग्रेस के दिग्गज नेता अर्जुन सिंह को लोकसभा चुनाव में हराया हो उसके साथ इस तरह बर्ताव किया गया। अब वह भाजपा में वापस नहीं आएंगे। 

बीजेपी को मिलेंगी 124 सीटें

उनसे पूछा गया अगर सर्वे सच होते हैं और भाजपा हार जाती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पूरी पार्टी ही इसके लिए जिम्मेदार होगी। पार्टी के मुखिया इस हार के लिए जिम्मेदार होंगे । लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि अगर भाजपा जीत जाती है तो भी मुखिया के सिर ही सेहरा बंधेगा। गौर ने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी अतिउत्साहित है। उसे तो चुनाव आयोग पर भरोसा ही नहीं है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने आंतरिक सर्वे करवाया है। पार्टी को 120 से 124 सीटें मिल रही हैं। और कांग्रेस को 95 सीटें मिलेंगी और 8 सीटें अन्य के खाते में रहेंगी। 

कांग्रेस को दे चुकें हैं जीत की बधाई

गौरतलब है कि बाबूलाल गौर समय समय पर पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी करते रहे हैं। विधानसभा हो या फिर कोई और प्लेटफार्म गौर ने हमेशा तीखे हमले किए हैं। हाल कि में उनका एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वह कांग्रेस प्रत्याशी आरिफ अकील को मंत्री बनने और कांग्रेस की सरकार बनने की बधाई देते नजर आ रहे थे। इसपर भी काफी बवाल कटा था। फिर बाद में उन्होंने कहा था कि घर आए मेहमान को आशीर्वाद ही दिया जाता है श्राप नहीं। इससे पार्टी की राष्ट्रीय स्तर पर किरकिरी हुई थी। इस बार पार्टी ने गौर का टिकट काट कर उनकी बहु को राजधानी की गोविंदपुरा सीट से मैदान में उतारा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here