Henley Passport Index 2023 : पाकिस्तान दुनिया का चौथा सबसे खराब पासपोर्ट वाला देश

भारत की स्थिति में सुधार, जानिये हेनले पासपोर्ट इंडेक्स 2023 की रैंकिंग में कौन से देश हैं अव्वल

Henley Passport Index 2023 : क्या आप जानते हैं कि किस देश का पासपोर्ट दुनिया में सबसे शक्तिशाली है ? हेनले पासपोर्ट इंडेक्स 2023 की रैंकिंग जारी कर दी है और इसके मुताबिक जापान ने फिर से बाजी मारी है। लगातार पांचवें साल जापानी पासपोर्ट को दुनिया का सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट घोषित किया गया है। वहीं भारत की बात करें तो उसने दो अंकों का सुधार किया है।

जापान का दबदबा कायम

हेनले एंड पार्टनर्स लंदन स्थित वैश्विक नागरिकता और एडवायजरी फर्म है। उसके द्वारा जारी की गई लिस्ट में 199 पासपोर्ट शामिल हैं लेकिन कई देशों को एक ही रेंकिंग दी गई है इसलिए क्रम 109 तक पहुंचा है। इस क्रम में पहले नंबर पर काबिज़ रहकर जापान ने अपना दबदबा कायम रखा है। जापानी पासपोर्ट रखने वाले 193 देशों की वीजा फ्री या वीजा ऑन अराइवल के जरिए यात्रा कर सकते हैं। दूसरे नंबर पर सिंगापुर और दक्षिण कोरिया है और तीसरे नंबर पर जर्मनी और स्पेन है। फिनलैंड, इटली और लक्ज़्मबर्ग चौथे नंबर पर है। यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, स्विट्जरलैंड और कनाडा सहित कुछ और देश टॉप टेन में शामिल हैं।

भारत की स्थिति में सुधार

भारत पिछले साल इस सूची में 87 नंबर पर था। इस साल दो अंकों का सुधार करते हुए वो 85वें नंबर पर है। भारतीय पासपोर्ट वाले नागरिक 59 देशों में वीजा फ्री या वीजा ऑन अरावइल के जरिए यात्रा कर सकते हैं। ग्रॉस हैप्पीनेस इंडेक्स लागू करने वाला भूटान इस लिस्ट में 90वें नंबर पर है और चीन 66वें नंबर पर। इस रैंकिंक के मुताबिक पाकिस्तान चौथा सबसे खराब पासपोर्ट वाला देश है। ये 106 नंबर पर है और पिछले साल भी इसकी यही स्थिति थी। पाकिस्तानी पासपोर्ट के साथ सिर्फ 32 देशों में वीजा फ्री या वीजा ऑन अराइवल के जरिए यात्रा की जा सकती है। पाकिस्तान के बाद क्रम में तीन देश और हैं जिनमें सीरिया, इराक और अफगानिस्तान शामिल है। अफगानिस्तान के पासपोर्ट को दुनिया का सबसे खराब पासपोर्ट माना गया है और इसके साथ 27 देशों की वीजा फ्री यात्रा की अनुमति मिलती है। कोविड-19 के बाद दुनियाभर का पर्यटन उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ है।  IMF के डाटा के अनुसार महामारी से पहले पर्यटन के जरिए दुनिया की 10 फीसदी जीडीपी अर्जित होती थी। अब एक बार फिर धीरे धीरे टूरिज्म सेक्टर में उछाल आ रहा है।