उच्च शिक्षित युवाओं में लगी Street Vendors बनने की होड़, 50 हजार युवाओं ने किया आवेदन

कोरोनाकाल के दौरान स्ट्रीट वेंडर्स को आर्थिक तंगी का शिकार होना पड़ रहा है। जिनके लिए केंद्र सरकार द्वारा पीएम स्वनिधि योजना की शुरूआत की गई है। जिसके लिए मध्यप्रदेश से करीब 50 हजार उच्च शिक्षित युवाओं ने आवेदन किया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूरे देश में दिन-ब-दिन बेरोजगारों की संख्या (Number of unemployed) बढ़ती जा रही है। ऐसे में कोरोना महामारी (Corona epidemic) ने भी एक बड़ा असर डाला है। जिससे लोग आर्थिक तंगी के भी शिकार हो चुके हैं। हर साल भारी संख्या में लोग ग्रेजुएट होकर कॉलेज (College) और विश्वविद्यालय (university) से निकल रहे है, जिन्हें जॉब की तलाश (Job search) है। इसी प्रकार कोरोनाकाल (Coronacal) में लगे लॉकडाउन (Lockdown) के कारण भी लाखों लोग बेरोजगार (unemployed) हो चुके है। जिन्हें अब रोजगार (employed) की तलाश है। इसमें सबसे ज्यादा असर स्ट्रीट वेंडर्स (Street vendors) पर हुआ है। जो सड़कों के किनारे अपनी दुकान और ठेला लगाते थे।

केंद्र सरकार ने की पीएम स्वनिधि योजना की शुरूआत

सभी जानते है कि अधिकतर स्ट्रीट वेंडर्स (Street vendors) दूसरे जगह से काम की तलाश (Looking for work) में आए रहते है। ऐसे में उनका रोजगार (employment) छिन जाए तो, काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। इन्ही सभी बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार (Central government) द्वारा प्रयास किया जा रहा है कि सभी कार्य अब धीरे-धीरे पटरी पर आ जाए। जिसके लिए केंद्र की मोदी सरकार (Modi government at the center) ने पीएम स्वनिधि योजना (PM Swanidhi Scheme) आरंभ की है। जिससे रेहड़ी-पटरी (Street track) पर काम करने वाले लोगों को फिर से रोजगार मिल सके।

ये भी पढ़े- “फ्री हैण्ड “पर गरमाई सियासत, कांग्रेस ने CM शिवराज पर साधा निशाना

लोन के लिए उच्च शिक्षित युवा कर रहे आवेदन

वर्तमान समय में शिक्षित (Educated) से लेकर अशिक्षित (Uneducated) सभी लोगों को रोजगार की तलाश (Seeking employment) है। ऐसे में सभी लोग पीएम स्वनिधि योजना (PM Swanidhi Scheme) का लाभ लेना चाहते है। जो अब कतार में लग चुके है। जी हां मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में ग्रामीण इलाकों से लगभग 50 हजार उच्च शिक्षित (highly qualified) युवा करीब 10 हजार रुपए का लोन लेकर स्ट्रीट वेंडर्स (Street vendors) बनान चाहते है। जिसके लिए सभी लोग लाइन पर है।

MP में करीब 29 लाख से अधिक बेरोजगारों का है पंजीयन

जानकारी के अनुसार, पीएम स्वनिधि योजना (PM Swanidhi Scheme) आत्मनिर्भर भारत पैकेज (Self-sufficient india package) के अंतर्गत आता है। जिसके लिए ग्रामीण क्षेत्र के उच्च शिक्षित युवाओं ने आवेदन किया है। बता दें कि मध्यप्रदेस में रजिस्टर्ड बेरोजगारों की संख्या 29 लाख के पार है। ये संख्या एमपी सरकार (MP Government) के ग्रामीण कामगार सेतु शासकीय पोर्टल (Rural Workers Bridge Government Portal) के स्पीड वेंडर रूरल डैशबोर्ड से है। जिन्होंने लोन के लिए अप्लाई किया है।

पीएम स्वनिधि योजना से मिलेगा बिना ब्याज पर लोन

पढ़े-लिखे होने के बावजूद भी नौकरी नहीं मिल पाने से परेशान युवाओं ने महज 10,000 रुपए का लोन लेकर स्ट्रीट वेंडर्स बनने के लिए अप्लाई किया है, जिसमें देखा जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोग ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट है। पूरे देश में लगातार बढ़ रही बेरोजगारी और फुटपाथ पर ठेला और दुकान लगाने वालों की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए केंद्र सरकार ने पीएम स्वनिधि योजना की शुरूआत की है। जिसके तहत 10 हजार रुपए का लोन बिना किसी ब्याज पर दिया जाएगा।

ऐसे मिलेगा योजना का लाभ

बात करें कि लोग पीएम स्वनिधि योजना का लाभ कैसे ले सकते हैं, तो इसके लिए भी सरकार ने गाइडलाइन जारी की है। जिसके तहत रेहड़ी-पटरी, ठेले वाले लोग पीएम स्वनिधि योजना का लाभ उठा सकते हैं। केंद्र सरकार की पीएम स्वनिधि योजना के तहत लोगों को 10,000 रुपए तक का लोन दिया जाएगा। जिसके लिए उन्हें किसी भी तरह का ब्याज नहीं लगेगा। यह लोन उन्हें किसी गारंटी पर मिलेगा। इसके साथ ही इस लोन को चुकाने के लिए समय अवधि भी तय की गई है, जिसके अनुसार लोन का भुगतान करने पर सात फीसदी तक ब्याज सब्सिडी भी मिलेगी। इस लोन का लाभ लेने के लिए लोग ऑनलाइन माध्यम से आवेदन कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here