भारतीय सेना की ताकत बढ़ी, एंटी टैंक मिसाइल का महू में सफल परीक्षण

इंदौर ।

शहर के नजदीक महू सैनिक छावनी में भारतीय सेना ने स्पाइक गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है यहां हर दो साल में होने वाली कमांडर कॉन्फ्रेंस में थल सेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत शामिल हुए  थल सेनाध्यक्ष बुधवार रात महू पहुंचे वे सैन्य संग्रहालय का निरीक्षण किया और उन्होंने एंटी टैंक मिसाइल का अवलोकन किया,महू के इन्फैंट्री स्कूल में 35वें इन्फैंट्री कमांडर्स सम्मेलन मंगलवार को शुरू हुआ था इस सम्मेलन की अध्यक्षता सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने की इस सम्मेलन में कमांडर और कमांडिंग ऑफिसर रैंक के अधिकारी शामिल हुए इस सम्मेलन का मकस दइन्फैंट्री के संचालन, प्रशिक्षण और प्रबंधन पहलुओं की समग्र समीक्षा करना है गुरुवार तक चले कार्यक्रम में भारतीय सेना के शीर्ष अधिकारियों ने  इन्फैंट्री की भूमिका को सशक्त और प्रभावी बनाने के बारे में विचार विमर्श किया 

महू में हुआ सफल परीक्षण 

कमांडर कांफ्रेंस के दौरान भारतीय सेना के बेड़े में शामिल हुई स्पाइक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया ये मिसाइल इजराइल में बनी है इस मिसाइल को जम्मू-कश्मी में उत्तरी कमान के युद्ध क्षेत्र में एलओसी पर तैनात किया गया है इससे पाकिस्तान के साथ लगी भारत की सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था और मजबूत हो गई है इस मिसाइल को दागो और भूल जाओ जैसे शब्दों से पुकारा जाता है ये पूरी तरह से पोर्टेबल है और शक्तिशाली इतनी है कि टैंक को नष्ट कर सकती है और 4 किलोमीटर के दायरे में बंकर को भी तबाह कर सकती है इजराइल ने भारतीय सेना को आपातकालीन खरीद प्रोजेक्ट के तहत 280 करोड़ रुपए के सौदे में कुल 210 मिसाइलें और 12 लॉन्चरों की आपूर्ति की है 

एलओसी पर तैनात हुई मिसाइल 

भारत के बालाकोट में हुए आतंकी हमले के बाद आतंकी शिविरों पर हुए हवाई हमलों के बाद से ही भारतीय सेना को इस तरह की मिसाइल की जरूरत महसूस हो रही थी चार किलोमीटर तक मारक क्षमता वाली इस मिसाइल का इस्तेमाल एलओसी के करीब बंकर,शेल्टर,घुसपैठ के अड्डों और आतंकवादी ट्रेनिंग कैम्पो को नष्ट करने में किया जाएगा