इंदौर/आकाश धोलपुरे

मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी के लिए एक बड़ी और सुखद खबर ये है कि कोरोना से संक्रमित मरीज अब स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं। बता दे कि शुक्रवार को इंदौर के अरविंदो अस्पताल से 12 लोगो को डिस्चार्ज किया गया जिन्होंने डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ की मदद से कोरोना को मात दी है।

इस बात की मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रवीण जाडिया ने पुष्टि कर बताया कि ये वो 12 मरीज है जिनकी प्रथम रिपोर्ट निगेटिव आई थी इनकी दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने के बाद पूर्ण स्वस्थ होने के कारण आज डिस्चार्ज किया गया है। डॉ. जाडिया के मुताबिक ठीक हुए लोगो मे टाटपट्टी बाखल, रानीपुरा के भी लोग हैं साथ ही एक बड़े निजी अस्पताल के डॉक्टर भी डिस्चार्ज किये गए लोगो मे शामिल है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक 17 लोग पहले डिस्चार्ज किये जा चुके है और 12 लोगो को शुक्रवार को डिस्चार्ज कर दिया गया है जिसके चलते अब कोरोना को मात देकर, स्वस्थ जिंदगी में लौटने वाले लोगो की संख्या 29 हो चुकी है, वहीं 20 लोग अभी और भी ऐसे है जिनको आगामी कुछ दिनों में डिस्चार्ज किया जाएगा। डॉक्टर जाडिया ने बताया कि कुल 197 मरीज थे जिनका इलाज चल रहा था जिनमें से 12 लोगो को डिस्चार्ज कर दिया गया है और अब 185 लोग अभी भर्ती है।

कैलाश विजयवर्गीय ने डिस्चार्ज हुए लोगो का किया ताली बजाकर अभिनन्दन

इंदौर के अरविंदो अस्पताल से जब सभी 12 लोग कोरोना को हराकर लौट रहे थे उस वक्त वहां बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी मौजूद थे। विजयवर्गीय ने कोरोना के काल को हराने वाले सभी लोगो का अभिनन्दन किया और ताली बजाकर स्वस्थ हुए लोगो, इलाज करने वाले डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ का विश्वास भी बढ़ाया। स्वस्थ होकर घर लौटने वाले लोगो को शुभकामनाएं देने के बाद कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कोरोना का पेशेंट होना अपने आप मे एक तरह से काल के दरवाजे खड़ा हुआ व्यक्ति होना है और उसको काल के दरवाजे से निकालकर लाना, ये देवदूत समान डॉक्टर ही कर सकते है। विजयवर्गीय ने कहा कि मै सब डॉक्टर को बधाई देता हूँ। उन्होंने कोरोना से मुक्त हुए लोगो को बधाई देने के साथ ही इंदौरवासियों से कहा कि कोरोना का इलाज ये ही है कि आप घर के अंदर रहे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री सब प्रदेश को और देश को बचाना चाहते है, आपके जीवन को बचाना चाहते है और इसलिए लॉक डाउन है और आप लॉक डाउन का पालन कीजिये। कैलाश विजयवर्गीय ने ये भी कहा कि इंदौर निश्चित रूप से एक ऐसे चौराहे पर खड़ा है जहाँ पर यदि हमने सहयोग दिया तो इंदौर फिर से विकसित होगा और यदि हमने असहयोग किया तो इंदौर को इसकी बहुत बड़ी सजा भुगतना पड़ेगी।

इंदौर में अब तक 29 लोग कोरोना जैसी प्राणघातक बीमारी को हराकर स्वस्थ होकर घर लौट चुके है ऐसे में हम भी आपसे अपील करते है कि लॉक डाउन का पालन करे और घर मे ही रहे ताकि इंदौर, कोरोना को हराकर जल्द ही जीत हासिल कर सके।