कमलनाथ मंत्रिमंडल में ख़त्म होगा इंदौर का सूखा, इनको मिल सकता है मौका

indore's-mla-also-become-minister-in-kamalnath-cabinet-

भोपाल| मध्य प्रदेश में 15 साल भाजपा की सरकार और 13 मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान के कार्यकाल में इंदौर की उपेक्षा हुई| राजनीतिक लिहाज से सबसे महत्वपूर्ण माने जाने वाले इंदौर से किसी भी विधायक को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली, 2013 में तीसरी बार बनी भाजपा सरकार के पूरे कार्यकाल के दौरान दो बार मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ, लेकिन इंदौर को निराशा ही हाथ लगी| जबकि साल 2013 में भाजपा ने यहां 8 सीट जीती थी। लेकिन इस बार इंदौर को सूखा ख़त्म होने की उम्मीद है| इस बार कमलनाथ मंत्रिमंडल में इंदौर को मौका मिल सकता है| यहां से एक से ज्यादा विधायकों के मंत्री बनने की सम्भावना है| 

लम्बे समय से इंदौर में मंत्री की आस है, लेकिन हर बार चर्चा के बाद सिर्फ निराशा ही हाथ लगी| चुनाव से 9 माह पहले शिवराज कैबिनेट के अंतिम विस्तार के दौरान भी यह चर्चा थी कि इस बार इंदौर से दो विधायकों को मंत्री बनाया जाएगा| इंदौर से सुदर्शन गुप्ता और रमेश मेंदोला के नाम हर बार की तरह इस बार भी मंत्री पद की रेस में आगे थे, लेकिन ऐनवक्त पर दोनों के नाम सूची से कट गए, और  नारायण सिंह कुशवाह, जालम सिंह पटेल और बालकृष्ण पाटीदार ने मंत्री पद की शपथ ली| इस बार बीजेपी 15 साल बाद सत्ता से बाहर है और अब कमलनाथ मंत्रिमंडल का गठन होने वाला है| जिसमे क्षेत्रीय संतुलन बनाया जाएगा| इंदौर में कांग्रेस को बड़ी सफलता मिली है| यहां की 9 विधानसभा सीटों में से 5 पर भाजपा और 4 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की। साल 2013 में भाजपा ने यहां 8 सीट जीती थी। सांवेर विधायक और प्रदेश उपाध्यक्ष तुलसीराम सिलावट और राऊ से विधायक और प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष जीतू पटवारी का मंत्रि मंडल में शामिल होना तय माना जा रहा है।

कमलनाथ कैबिनेट में मालवा अंचल का भी दबदबा दिखेगा| अंचल की 25 सीटों में से 14 सीटें कांग्रेस ने जीती हैं, ऐसे में इंदौर सहित मालवा अंचल को मंत्रिमंडल में प्रतिनिधित्व मिलना तय है। सोमवार को कमलनाथ के मुख्यमंत्री पद के शपथग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी प्रदेश के बड़े नेताओं से चर्चा करेंगे। इसके बाद मंत्रिमंडल में जिन नेताओं को शामिल किया जाना है, उनके नाम तय किए जाएंगे।  इंदौर से दो नामों की चर्चा है| इसके अलावा सोनकच्छ से चुनाव जीतने वाले कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सज्जनसिंह वर्मा का नाम भी मंत्री के लिए तय माना जा रहा है। धार और आलीराजपुर से उमंग सिंघार, राजवर्धनसिंह दत्तीगांव और पांचीलाल मेढ़ा का नाम भी चल रहा है| अब देखना होगा प्रदेश भर में क्षेत्रीय संतुलन बिठाने के लिहाज से इंदौर को कितने मंत्री मिलते हैं|