इन जोनों में शुरू होंगे औद्योगिक कार्य, रेड जोन वाले जिले पूरी तरह से प्रतिबंधित

भोपाल।

कोरोना(corona) संकट के बीच 20 अप्रैल के बाद से उन इलाकों में राहत दी गई है जहां संक्रमण कम है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(cm shivraj singh chouhan) ने रविवार को घोषणा की कि सभी जिलों में औद्योगिक गतिविधियों(industrial activity) की अनुमति होगी लेकिन सबसे ज्यादा प्रभावित इंदौर(indore), भोपाल(bhopal) और उज्जैन(ujjain) के लिए ये छूट नहीं मिलेगी। इंदौर, भोपाल और उज्जैन के अलावा बाकी इन दो क्षेत्रों में हैं। ऑरेंज और ग्रीन जोन में औद्योगिक रफ्तार की अनुमति है किंतु लाल क्षेत्र में पूर्ण लॉकडाउन जारी रहेगा।

रविवार शाम को एमपी(mp) के लोगों को संबोधित करते हुए सीएम(cm) ने कहा कि निर्माण गतिविधियों, मनरेगा(manrega) और औद्योगिक गतिविधियों के तहत काम करने की अनुमति सभी अन्य जिलों(district) में होगी। जो केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के साथ उनके संरक्षण के अधीन होंगे। दुकानें भी खोलने की अनुमति दी जाएगी लेकिन सामाजिक भेद के मानदंडों का पालन सभी को करना होगा। सीएम ने कहा कि रबी फसलों(rabi crops) की खरीद भी की जा रही है और सरकार(government) किसानों के हर अनाज की खरीद के लिए प्रतिबद्ध है। अगर व्यापारी किसानों को उनकी उपज की उचित दर देते हैं तो वे इसे उन्हें भी बेच सकते हैं। चौहान ने घोषणा की कि मंडियों से फसल खरीदने की बाध्यता में ढील दी जा रही है और व्यापारी किसानों के घरों से गेहूं और अन्य उपज खरीद सकते हैं या अपने स्वयं के खरीद केंद्र स्थापित कर सकते हैं।

सीएम ने आरोप लगाया कि पिछली सरकार ने फसल बीमा योजना(insurance policy) के लिए प्रीमियम(premium) का भुगतान नहीं किया था लेकिन अब सरकार ने 2200 करोड़ रुपये के प्रीमियम का भुगतान किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य के लाखों किसानों के खातों में जल्द ही 3,000 करोड़ रुपये जमा किए जाएंगे। उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि वे मंडियों में मास्क(mask) के साथ ही खरीदी करने आएं। सीएम चौहान ने आश्वासन दिया है कि इंदौर और भोपाल में स्थिति अब नियंत्रण में है और जैसे ही स्थिति में सुधार होता है। मैं इन जगहों पर पूर्ण लॉकडाउन(total lockdown) के खोलने पर विचार करूंगा। उन्होंने कहा कि वल्लभ भवन (राज्य सचिवालय) को नहीं खोलने का फैसला किया है। अन्य कार्यालय भी नहीं खुलेंगे क्योंकि भीड़ इकट्ठी होगी। शराब की दुकानें बंद रहेगी। उन्होंने कहा कि थूकना और गुटखा पर प्रतिबंध है और शराब की दुकानें बंद रहेंगी। मुख्यमंत्री ने सलाह दी कि उन क्षेत्रों में जहां छूट दी जा रही है। बुजुर्गों, बच्चों और उन लोगों को जिनमें फेफड़े के विकार, विशेषकर फेफड़ों की दिक्कत हैं। उन्हें अपने घरों से बाहर निकलने से बचना चाहिए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों से एकजुट होकर कोरोना से लड़ने की अपील की। उन्होंने कहा कि मुझे यकीन है कि इस चुनौती को एक बेहतर मध्य प्रदेश के लिए एक अवसर के रूप में बदला जा सकता है।