International Day of Education 2023 : जानिये अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस का महत्व और इस साल की थीम

शिक्षा से मनुष्य का विकास होता है, ये जीवन में गुणात्मक सुधार लाती है और ज्ञान के प्रकाश से आलोकित करती है

International Day of Education 2023 : आज अंतरराष्ट्रीय शिक्षा दिवस है। इसका उद्देश्य दुनियाभर में शिक्षा के महत्व को प्रतिपादित करना और गरीब वंचित बच्चों को शिक्षा देने के लिए जागरूकता फैलाना है। शिक्षा प्राप्त करने के लिए कोई सामाजिक व आर्थिक अड़चन न आए और सभी को ये बुनियादी अधिकार मिले, इस बात को समझाने के लिहाज़ से आज का दिन बहुत अहम है।

इस दिन का महत्व

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 3 दिसंबर, 2018 को हर वर्ष अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाने का प्रस्ताव पारित किया था। इसके बाद 2019 से हर साल 24 जनवरी को ये दिन मनाया जाता है। इस बात में कोई मतभेद नहीं हो सकता कि शिक्षा जीवन में कितनी जरूरी है। ज्ञान के प्रकाश से व्यक्ति में गुणात्मक सुधार आता है। ये मनुष्य को जीवन के मूल्य सिखाती है, आत्मनिर्भर बनाने में सहायक होती है और इससे बौद्धिक, सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक विकास होता है। सामान्यतया एक शिक्षित व्यक्ति अपने जीवन को अधिक बेहतर बना पाता है। शिक्षा व्यक्ति को आगे बढ़ने में, आजीविका अर्जित करने में, जीवन मूल्य समझने में, रूढ़ियों को तोड़ने में और नवाचार के लिए भी सक्षम बनाती है। समाज में शिक्षित व्यक्ति के लिए अपेक्षाकृत अधिक अवसर होते हैं और अधिक सम्मान भी। शिक्षा किसी के भी जीवन को नई दिशा दे सकती है और उसकी विकास यात्रा में सहायक होती है। व्यक्तियों के विकास से ही समाज और देश का विकास होता है। किसी भी देश की समृद्धि और विकास वहां की शिक्षा दर पर बहुत निर्भर करता है।

इस साल की थीम

ये एक अफसोसजनक तथ्य है कि आज भी दुनिया में कई बच्चे शिक्षा से वंचित हैं। यूनेस्को की रिपोर्ट के मुताबिक आज करीब 244 मिलियन बच्चे और युवा स्कूल नहीं जा पाते हैं। वहीं दुनियाभर में 771 वयस्क निरक्षर है। गरीबी से निकलने के लिए शिक्षा ही सबसे सही मार्ग है और यही वजह है कि आज दुनियाभर में शिक्षा के अधिकार के लिए वृहद स्तर पर काम हो रहा है। व्यक्ति के रोजगार के साथ ही शिक्षा उसे मानसिक रूप से भी विकसित करती है। इस साल इंटरनेशनल एजुकेशन डे की थीम ‘लोगों में निवेश करें और शिक्षा को प्राथमिकता दें’ (To Invest in People, Prioritize Education) है। इस दिन सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुभकामनाए देते हुए कहा है ‘शिक्षा वह दिव्य प्रकाश है, जो हम सबको प्रबुद्ध करता है। दुनिया को बेहतर बनायें, साक्षरता का प्रकाश फैलायें। आइये, अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर शिक्षा के प्रति जागृति की दिव्य ज्योत प्रज्ज्वलित करें।’ हम सभी को आज के दिन संकल्प लेना चाहिए कि शिक्षा के प्रसार के लिए अपने स्तर पर जो प्रयास संभव होंगे वो करेंगे और अपने साथ दूसरो के जीवन को भी प्रकाशवान करने में सहभागी बनेंगे।