प्रदेश के हालात पर नजर रख रहे मुख्यमंत्री कमलनाथ, रद्द किए दौरे

भोपाल। अयोध्या मामले में फैसले के बाद प्रदेश भर में पुलिस अलर्ट पर है, किसी भी प्रकार की अप्रिय स्तिथि न बने इसको लेकर चप्पे चप्पे पर बल की तैनाती अगले दो तीन दिन जारी रहेगी| वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ राजधानी भोपाल में ही रहकर प्रदेश भर की कानून व्यवस्था पर नजर बनाये रखे हुए हैं| मुख्यमंत्री शनिवार को जबलपुर, मंडला व रविवार को इंदौर जाने वाले थे। लेकिन फैसला आने के चलते उन्होंने अपने कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं|  मुख्यमंत्री ने रविवार को इंदौर में आयोजित आईटीए अवॉर्ड कार्यक्रम में जाने का कार्यक्रम भी निरस्त कर दिया है। अब लगातार भोपाल से ही पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति पर नजर रखेंगे।

शनिवार को दिल्ली से भोपाल पहुंचने पर मुख्यमंत्री सुबह करीब साढ़े 11 बजे सीधे मंत्रालय पहुंचे। यहां कुछ देर रुकने के बाद पुलिस मुख्यालय में अधिकारियों के साथ बैठक की और कानून व्यवस्था का फीडबैक लिया। शनिवार को शाम छह बजे होने वाले मुख्यमंत्री जनकल्याण कार्यक्रम को भी स्थगित कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दोपहर में सीएम कमलनाथ ने प्रेस वार्ता कर लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की| उन्होंने कहा  सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम सम्मान व आदर करते हैं। यह सर्वसम्मति वाला फैसला है। 

विरोध या जश्न का हिस्सा न बनें

सीएम ने प्रदेश के नागरिकों से अपील की कि वे इस फैसले के विरोध या जश्न का हिस्सा न बनें। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को अयोध्या फैसला आने के बाद पुलिस मुख्यालय में पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि उनकी गृह मंत्री अमित शाह से चर्चा हुई है। उन्होंने बताया कि गृह मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार को जिस प्रकार की आवश्यकता है केंद्र सरकार उस आवश्यकता को देने के लिए तैयार है| सीएम नाथ ने बताया कि प्रदेश में पूरी व्यवस्था चाक-चौबंद है अभी तक 5 या 6 छुटपुट घाटा सामने आई है, अभी तक कोई ऐसी बड़ी घटना सामने नहीं आई है, पूरे प्रदेश में अभी शांति है| 

स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी पर अभी फैसला नहीं 

मुख्यमंत्री ने कहा कि रविवार को मिलाद-उन-नबी पर्व को लेकर पुलिस को जो प्रबंध की आवश्यकता होगी वह करेगी। पुलिस अधिकारी सभी धर्म के लोगों के साथ चर्चा कर रहे हैं और जो आवश्यक होगा वह कदम उठाए जाएंगे। पुलिस ने आज, कल और सोमवार के लिए पूरे इंतजाम कर रखे हैं। त्योहारों पर जुलूस निकाले जाने पर प्रतिबंध को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पुलिस तय करेगी कि कैसा प्रतिबंध लगाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सोमवार को स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी को लेकर कहा कि इसका फैसला उसी दिन लिया जाएगा।