मॉब लिचिंग घटना पर कमलनाथ सरकार सख्त, SIT गठित के आदेश, मुआवजे का ऐलान

भोपाल।
मध्यप्रदेश के धार में बुधवार को हुई मॉब लिंचिंग की घटना ने पूरे प्रदेश को झकझोर के रख दिया है। इस मामले में कमलनाथ सरकार ने सख्त रवैया अपनाया है और जांच के आदेश दिए है। सीएम कमलनाथ ने SIT गठित कर पूरे मामले की जांच और दोषियों पर कार्यवाही की बात कही है।

इस मामले में आज मीडिया से चर्चा करते हुए कैबिनेट मंत्री पी सी शर्मा ने कहा कि पूरे मामले में SP कलेक्टर से रिपोर्ट ली गई है। दो लोगो की इस मामले में गिरफ्तारी हो चुकी है। पूरे मामले पर सीएम ने जांच के आदेश दिए।वही SIT गठित करने के भी आदेश दिए गए है।SIT का गठन किया जा रहा है, जिसमें एडिशनल एसपी, CSP, TI और प्रशानिक अधिकारी होंगें। वही शर्मा ने कहा कि मॉब लॉन्चिंग के कानून को लेकर गृह मंत्री से चर्चा करेंगे।इसे रोकने के लिए क्या किया जा सकता है, इस पर जल्द एक्शन लेंगे ।

इधर मप्र के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट घटना में घायल लोगों से मिलने एमवाय अस्पताल पहुंचे। मंत्री सिलावट ने बताया कि मामले की जांच के लिए सरकार ने एसआईटी का गठन किया है। वहीं मृतक के परिवार को दो लाख रुपए का मुआवजा दिए जाने का निर्णय भी लिया गया है। घटना में घायल लोगों का उपचार सरकार द्वारा कराया जाएगा।मामले में संदिग्ध आरोपियों के रूप में लगभग 40 लोगों की पहचान की गई है जिसमें से 3 आरोपियों को पुलिस ने पकड़ भी लिया है।

बता दे कि धार जिले के तिरला थाना क्षेत्र के खड़किया गांव में बुधवार को बच्चा चोरी का आरोप लगाते हुए 6 लोगों की बेहरमी से पिटाई कर दी थी। मॉब लिंचिंग की इस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि 5 व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए थे। वही दो लोगों की हालत बेहद गंभीर है। सभी घायलों का इंदौर के एमवाय अस्पताल में इलाज जारी है।