कमलनाथ बोले- दुष्कर्म मामले में देश की राजधानी बना MP, उपचुनाव में जनता देगी जवाब

मध्यप्रदेश में किसानों से लेकर व्यापारी नौजवान और महिलाएं हर कोई परेशान है। सौदे से सरकार बनाने वाली भाजपा के राज में प्रजातंत्र भी खतरे में है।

kamalnath

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्यप्रदेश उपचुनाव (MP By-election) से पहले और हाथरस घटना के बाद मध्यप्रदेश में एक के बाद एक लगातार हो रही दुष्कर्म (Rape) की घटनाओं के बाद सियासत गर्मा गई है। भाजपा-कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर तेजी से चल रहा है। दोनों की दल एक दूसरे पर जमकर जुबानी हमले कर रहे है। इसी कड़ी में आज जबलपुर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ (Kamalnath) ने शिवराज सरकार (Shivraj Government) को जमकर घेरा। नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश बलात्कार (Rape) की राजधानी बन रही है, बेरोज़गारी (Unemployment) की राजधानी बन रही है, किसान (Farmers) पीड़ा की राजधानी बन रही है, यह चित्र आप सबके सामने है।

कमलनाथ यही नही रुके और आगे कहा कि मध्य प्रदेश में प्रजातंत्र डूब रहा है। मध्य प्रदेश दुष्कर्म, बेरोजगारों और किसानों की पीड़ा की राजधानी बन गया है। प्रदेश की जनता भोली है, लेकिन मूर्ख नहीं। भाजपा को 15 साल बाद बाहर का रास्ता दिखाया, शिवराज को घर बैठाया। कमलनाथ का आरोप है कि मध्यप्रदेश में किसानों (farmers) से लेकर व्यापारी नौजवान और महिलाएं हर कोई परेशान है। सौदे से सरकार बनाने वाली भाजपा के राज में प्रजातंत्र भी खतरे में है।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सीएम शिवराज सिंह चौहान पर एक बार फिर झूठ बोलने और झूठी घोषणाएं करने का आरोप दोहराते हुए कहा है कि उप चुनाव आते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने जनता से झूठ की कथा फिर से शुरू कर दी है लेकिन जिस तरह से पिछले चुनाव में प्रदेश की जनता ने 15 साल के शिवराज सरकार के झूठ का इलाज कर सत्ता से बेदखल किया था ठीक उसी तरह उपचुनाव में भी मतदाता भाजपा को सबक सिखाएंगे।

सुबह जबलपुर पहुंचे कमलनाथ ने सबसे पहले सिविक सेंटर स्थित बगलामुखी मंदिर में पूजन किया। जहां शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के निज सचिव सुबुद्धानंद महाराज व ब्रह्मचारी चैतन्यानंद ने विधि विधान से पूजन सम्पन्न कराया। पूजन के दौरान पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत, विधायक विनय सक्सेना समेत कांग्रेस के पदाधिकारी भी मौजूद रहे। पूजन के बाद कमलनाथ पूर्व मंत्री लखन घनघोरिया के निवास पर उनके पिता स्व. शिवलाल घनघोरिया की तेरहवीं संस्कार होने पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे। कमलनाथ ने लखन घनघोरिया व परिवार को ढांढस बंधाया।