कमलनाथ ने क्यों कहा- ‘ये अपराध बार बार करूंगा’

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के निकाय चुनावों की सियासी जंग में हनुमान पर बवाल खड़ा हो रहा है। भाजपाई कमलनाथ के हनुमानजी के साथ चित्र को लेकर विरोध कर रहे हैं और इस बीच कमलनाथ ने कह दिया कि मैं ये अपराध बार-बार करूंगा।

ये भी देखिये – कमलनाथ ने किसे चेताया ’15 महीने बाद होगा इंसाफ’

दरअसल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राज्य के पूर्व सीएम कमलनाथ उनके सांसद पुत्र नकुलनाथ का एक पोस्टर छिंदवाड़ा में वायरल हुआ था जिसमें दोनों हनुमान जी की एक बड़ी तस्वीर के साथ नजर आ रहे हैं। पोस्टर में हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी लिखी हुई है। इस पोस्टर को लेकर बीजेपी नेता भड़क गए और चुनाव आयोग जा पहुंचे। इन्होने कांग्रेस पर आचार संहिता के उल्लंघन करने का आरोप करते हुए शिकायत दर्ज कराई है। भाजपा नेताओं का कहना है कि कांग्रेस लगातार आचार संहिता का उल्लंघन कर रही है और इसे लेकर उन्होने राज्य निर्वाचन आयुक्त से मामले में कार्रवाई करने की अपील की है। साथ ही कांग्रेस के चुनाव प्रचार करने पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की भी मांग की है। हालांकि इस मामले में कमलनाथ का कहना है कि सालों पहले छिंदवाडा के सिमरिया में एक विशाल हनुमान मंदिर का निर्माण कराया था, जिसमें 101 फीट ऊंची विशाल मूर्ति बनवाई गई थी। वायरल पोस्टर में दिख रही तस्वीर उसी मूर्ति की है।

ये तो हुई बीती कहानी..अब इसे लेकर कमलनाथ आक्रामक तेवर के साथ सामने आ गए हैं। उन्होने ट्वीट करते हुए कहा कि कि “यदि मेरी आस्था अनुसार मेरा हनुमानभक्त होना अपराध है तो मेरे हनुमान के लिए यह अपराध मैं बार बार करूंगा। वैसे भी भारतीय संस्कृति और देश के संविधान में हर धर्म के व्यक्ति को अपनी आस्था के अनुरूप पूजा का अधिकार है। कोई किसी भारतीय को अपने भगवान की पूजा से रोक नहीं सकता है।”

उन्होने बीजेपी से सवाल करते हुए कहा कि “मेरी हनुमान भक्ति से मध्यप्रदेश भाजपा को कष्ट और समस्या क्यों हो रही है? हनुमान मेरी आस्था का केंद्र हैं। मैने हनुमान जी की प्रेरणा से उनका मंदिर सालों पहले छिंदवाड़ा में बनवाया था, कोई आज नहीं।” इस तरह अब हनुमान जी प्रदेश की राजनीति में एक मुद्दा बन गए हैं..रामभक्त भाजपाई जहां इनके पोस्टर पर आपत्ति जता रहे हैं वहीं कमलनाथ इस बात के साथ सामने आ गए हैं कि अगरचे ये अपराध है तो ये अपराध बार-बार करूंगा। देखना होगा कि हनुमान भक्ति और शक्ति की ये लड़ाई चुनावों में क्या असर डालेगी।