कमलनाथ ने मोदी सरकार के इस फैसले का किया स्वागत, शिवराज से की ये मांग

भोपाल।
कोरोना को लेकर जारी सियासी हलचल के बीच पूर्व मुख्यमंत्री (former cheif minister)और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष(congress state president) कमलनाथ(kamalnath) ने मजदूरों और स्टूडेंट को लाने के लिए चलाई जा रही विशेष ट्रेन(special train) के फैसला का स्वागत किया है। वही उन्होंने नासिक(nasik) से भोपाल(bhopal) पहुंची विशेष ट्रेन में किराया वसूले जाने पर नाराजगी जताई है और तत्काल मामले को संज्ञान में लेने की मांग की है।

कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा है कि कांग्रेस पार्टी पिछले एक माह से माँग कर रही थी कि देश भर के विभिन्न राज्यों में जो प्रवासी मज़दूर भाई , छात्र फँसे है उन्हें वापस अपने-अपने घर लाने के लिये विशेष ट्रेनें चलायी जावे।केन्द्र सरकार ने एक माह बाद निर्णय लिया कि विशेष ट्रेनें चलायी जायेगी,निर्णय स्वागत योग्य है।

नाथ ने अगले ट्वीट में लिखा है कि इसके लिये यह तय हुआ कि मज़दूरों से किराये की राशि नहीं ली जायेगी , इसका वहन राज्य सरकारे करेगी।लेकिन जिस प्रकार से तस्वीरें सामने आयी कि नासिक से भोपाल आयी विशेष ट्रेन में यात्रियों से किराया वसूला गया , वो बेहद आपत्तिजनक है। कोरोना महामारी के लॉकडाउन के चलते मज़दूर का पहले ही रोज़गार छीन चुका है , उसके पास खाने को राशन तक नहीं है , ऐसे संकट के दौर में उससे घर वापसी का किराया वसूला जाना बेहद शर्मनाक है।सरकार इस मामले में संज्ञान लेकर तत्काल किराया वसूली पर रोक लगाये , प्रदेश के वापस घर आ रहे मज़दूर भाइयों के किराये की राशि का खर्च सरकार ख़ुद वहन करे।

बता दे कि केंद्र सरकार ने अब 17 मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है।वहीं लॉकडाउन के कारण सारे यातायात सेवाएं बंद होने की वजह से कई प्रवासी मजदूर, तीर्थयात्री, पर्यटक एवं छात्र अलग-अलग प्रदेशों में फंसे हुए हैं। इसको देखते हुए केंद्र सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन(special train) चलाने की इजाजत देने के बाद आज शुक्रवार को मध्यप्रदेश(madhya pradesh) में नासिक(nasik) से मजदूरों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन भोपाल के मिसरोद पहुंची थी।