भोपाल। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। भोपाल में इसका असर सबसे अधिक देखने को मिल रहा है। छात्रों समेत आम लोग रोज़ रैलियां निकाल कर इसकानून का विरोध कर रहे हैँ। इस कानून को लेकर एक बार फिर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपना रुख साफ कर दिया है। उन्होंने न्यूज़ एजेंसी के दिए अपने इंटरव्यू में कहा कि वह किसी भी हाल में प्रदेश में सीएए को लागू नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि यह कानून देशहित में नहीं है। 

उन्होंने आगे कहा कि, नून बनाते समय और बड़े फैसलों के वक्त सर्वसम्मति के प्रयास होते रहे हैं, मगर सीएए के लिए सर्वसम्मति नहीं, बल्कि सहमति का सहारा लिया गया। संसद में यह कानून पारित किए जाने के बाद से इसके विरोध और समर्थन में लोग आवाज उठा रहे हैं। मध्य प्रदेश उन राज्यों में है, जहां के मुख्यमंत्री कमलनाथ साफ कर चुके हैं कि वह अपने राज्य में इस कानून को लागू नहीं होने देंगे।

कमलनाथ ने कहा, “जब भी कोई कानून बनाया जाता है तो उसमें साफ तौर पर लिखा जाता है कि कानून में क्या होगा और क्या नहीं होगा, इसका साफ उल्लेख होता है। मगर सीएए में क्या होगा यह तो है, मगर क्या नहीं होगा इसका जिक्र नहीं है। इसी को लेकर चिंता है। क्या नहीं होगा, इसका उल्लेख नहीं है। इसी में बीजेपी का हिडन एजेंडा मौजूद है। हमारी संस्कृति जोड़ने की है, मगर यह कानून जोड़ने के लिए नहीं है। इसलिए कांग्रेस और राज्य सरकार इसका विरोध कर रही है।”