सिंधिया को पीसीसी की कमान सौंपने कमलनाथ के इन मंत्रियों ने किया समर्थन

kamalnath-two-minister-batting-for-scidia-name-

भोपाल। लोकसभा चुनाव में मिली मात के बाद अब प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व में बदलाव की मांग उठ रही है। मुख्यमंत्री कमलनाथ के दो कैबिनेट मंत्री पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश की कमान सौंपने की वकालत कर रहे हैं। आज़ादी के बाद पहली बार सिंधिया घराने से किसी की हार हुई है। ज्योतिरादित्य सिंधिया पहली बार गुना शिवपुरी सीट से बीजेपी के केपी यादव से एक लाख 25 हज़ार वोटों से हारें हैं। अब पीसीसी की कमान बदलने के लिए सिंधिया का नाम आगे बढ़ाया जा रहा है। दो कैबिनेट मंत्रियों ने सिंधिया के नाम को आगे बढ़ाया है। इसमें मंत्री जीतू पटवारी और मंत्री इमरती देवी शामिल हैं। 

महिला और बाल विकास मंत्री इमरती देवी (सिंधिया समर्थक) और उच्च शिक्षा और खेल मंत्री जीतू पटवारी ने मांग की है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे युवा और ऊर्जावान नेता को राज्य कांग्रेस प्रमुख बनाया जाए। मंत्री पटवारी ने कहा कि “सिंधिया वर्तमान में कांग्रेस अध्यक्ष के पद के लिए सबसे उपयुक्त हैं, खासकर क्योंकि वह एक युवा और करिश्माई नेता हैं, और भविष्य के लिए एक दृष्टि भी रखते हैं।

जबकि केवल दो कैबिनेट मंत्री इस मांग को उठाते हुए मुखर हुए, उनके अन्य मंत्री सहयोगी विकल्पों पर गौर कर रहे हैं। दो अन्य मंत्री, एक पशुपालन मंत्री लखन सिंह यादव ( भितरवार सीट से विधायक) और वन मंत्री उमंग सिंघार (धार जिले की गंधवानी सीट से विधायक और पूर्व सांसद डिप्टी सीएम जमुना देवी के भतीजे) को बहुत उम्मीद है कि केंद्रीय पार्टी आलाकमान जल्द ही प्रदेश अध्यक्ष पद के बारे में उचित निर्णय लेगा। 

शनिवार रात कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव प्रभारी दीपक बाबरिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि सीएम कमलनाथ ने पिछले साल विधानसभा चुनावों के बाद एमपीसीसी प्रमुख पद से इस्तीफा देने की पेशकश की थी और यह प्रस्ताव आज भी है। बबरिया एक महीने के भीतर राज्य कांग्रेस को नया मुखिया बनाने की ओर भी संकेत दिया था, खासकर लोकसभा चुनाव अब खत्म हो चुके हैं। हालांकि, रविवार को नाथ ने इस्तीफे की कोई भी पेशकश करने से इनकार कर दिया। इस बीच, वरिष्ठ नेता गोविंद गोयल और दिग्विजय सिंह के विधायक भाई लक्ष्मण सिंह ने भी राज्य कांग्रेस संगठन में परिवर्तन की आवश्यकता के मुद्दे को उठाया है।