MP की इस सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की खबर पर आ गया करीना का जवाब

-Kareena-kapoor-khan's-reply-on-the-news-of-contesting-the-Lok-Sabha-election-from-bhopal

भोपाल| बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान के लोकसभा चुनाव लड़ने के कयासों पर खुद करीना का जवाब आ गया है| हाल ही में मध्य प्रदेश से कुछ कांग्रेस नेताओं ने करीना कपूर खान को भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ाये जाने की मांग उठाई थी | तब से ही करीना के चुनाव लड़ने की खबरे देश भर में सुर्ख़ियों में रही| लेकिन करीना ने इन खबरों से इंकार करते हुए फिलहाल राजनीति में नहीं आने की बात कही है| 38 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा कि फिल्में बनाना उनकी प्राथमिकता होगी और उनकी राजनीति में शामिल होने की कोई योजना नहीं है। करीना ने एक बयान में कहा, इन रिपोर्टों में कोई सच्चाई नहीं है। मुझसे इस बारे में कोई संपर्क नहीं किया गया। मेरा ध्यान सिर्फ और सिर्फ फिल्मों पर रहेगा। 

कांग्रेसियों ने  करीना को चुनाव लड़ाने राहुल गाँधी को लिखा था पत्र 

दरअसल, 40 साल से भोपाल सीट हार रही कांग्रेस को अब ऐसे चेहरे की तलाश है जो इस अभेद गढ़ को भेद सके | इसके लिए कांग्रेसी पार्षदों ने मांग रखी है थी कि करीना कपूर खान (Kareena Kapoor Khan) को भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ाया जाए, पार्टी उन्हें टिकट दे| यह मांग भोपाल के पार्षद गुड्डू चौहान, अमित शर्मा और मोनू सक्सेना ने रखी है| उन्होंने कांग्रेस आलाकमान तक ये बात पहुंचा भी दी है| इन नेताओं ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से मांग की है कि बीजेपी के लिए अभेद किला बन चुकी भोपाल सीट को मौजूदा दौर में जीता जा सकता है| इस संबंध में भोपाल नगर निगम के कांग्रेस पार्षद योगेंद्र सिंह (गुड्डू) ने राहुल गांधी को पत्र भी लिखा है|  चौहान ने अपने पत्र में लिखा है, 2019 के लोकसभा चुनाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. भोपाल लोकसभा सीट पर कई वर्षों से लगातार भाजपा का कब्जा है|  इसलिए इस सीट के लिए करीना कपूर उपयुक्त प्रत्याशी साबित होंगी|  वहीं कांग्रेस पार्षद अमित शर्मा तर्क देते हैं कि भोपाल में युवा मतदाताओं की तादाद ज्यादा है और करीना कपूर खान युवाओं को आकर्षित कर सकती हैं| वहीं पार्षद मोनू सक्सेना का मानना है कि पुराने भोपाल के वोट नवाब खानदान से प्रभावित होते हैं इसलिए ये कारगर हथियार हो सकता है| वहीं पार्षद गुड्डू चौहा��� का कहना है कि भोपाल के 27 कांग्रेस पार्षद हैं, जो भोपाल की 50 फीसदी आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं| हमने मुख्यमंत्री से मुलाकात का वक्त मांगा है जिसमें करीना कपूर खान को टिकट देने की मांग की जाएगी| वहीं कांग्रेस की इस मांग पर भाजपा नेता और भोपाल से वर्तमान सांसद आलोक संजर के कहा कि यहां कांग्रेस का कोई भी टोटका कभी काम नहीं आया है, इस बार भी भोपाल में भाजपा की जीत होनी है| 

करीना ने किया इंकार, फिल्मों पर ही रहेगा फोकस

फिल्म अभिनेत्री करीना कपूर खान ने भोपाल से चुनाव लड़ने की खबरों को अफवाह बताते हुए इसे सिरे से नकार दिया हैl इस बारे में एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में करीना कपूर खान ने कहा है कि उनके चुनाव लड़ने की खबरों में कोई तथ्य नहीं हैl उन्हें अभी तक इसके लिए संपर्क भी नहीं किया गया हैl इस समय उनका पूरा ध्यान फिल्मों पर ही केंद्रित हैल कुछ दिनों से खबर थी कि करीना कपूर खान को कांग्रेस द्वारा लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया जा सकता है और वे भोपाल, मध्यप्रदेश से चुनाव लड़ सकती हैं। लेकिन करीना कपूर खान ने इस खबर को अफवाह बताया है। करीना ने अपने स्टेटमेंट में कहा, ‘इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। मुझसे इस बारे में संपर्क नहीं किया गया। मेरा फोकस सिर्फ और सिर्फ फिल्में हैं। (There is no truth to these reports. I have not been approached for this whatsoever. My focus is and only will be movies)’ करीना के सामने आए इस बयान के बाद मामला साफ हो गया। 

करीना के ससुर पूर्व क्रिकेटर पटौदी लड़े थे चुनाव 

बता दें कि करीना के ससुर और पूर्व क्रिकेटर स्व मंसूर अली खां पटौदी भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं| हालांकि उन्हें हार मिली थी| स्व मंसूर अली खां पटौदी 1991 में भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़े थे|. राजीव गांधी ने उन्हें टिकट दिया था और प्रचार के लिए भोपाल आए थे, लेकिन तब भी पटौदी चुनाव जीत नहीं पाए| इसके बाद पटौदी परिवार में से किसी की भी चुनाव लड़ने की बात सामने नहीं आई| वहीं बॉलीवुड में सफल अभिनेत्रियों में से एक करीना कपूर के भी राजनीती में आने के संकेत कभी नहीं मिले न ही सैफ अली खान न कभी ऐसी बात कही| अब सवाल उठ रहा है कि आखिर कांग्रेस नेताओं ने किस आधार पर यह मांग रखी है| नवाब पटौदी की पत्नी शर्मिला टैगोर राजनीति में सक्रिय रहीं और यहां चुनाव प्रचार के लिए आती रही हैं, उनके नाम पर भी चर्चाएं उठीं, लेकिन शर्मिला यहां से कभी चुनाव नहीं लड़ीं|  सैफ अली खान और करीना कपूर भी भोपाल आये लेकिन सियासी तौर पर सक्रिय कभी नहीं रहे|