MP News : 7 लाख किसानों के खातों में नहीं पहुंचा किसान सम्मान निधि का पैसा, जाने वजह

मध्यप्रदेश के किसानों के खातों में पीएम किसान सम्मान निधि का करीब 7 लाख रुपए अब तक नहीं पहुंच पाए है। जिससे किसान लगातार परेशान हो रहे है और दफ्तरों के चक्कर काट रहे है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूरे देश में पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi) को सराहा जा रहा है। लेकिन इसका फायदा कई इलाकों के किसानों (farmers) को नहीं मिल पा रहा है। जिससे किसान (farmers) काफी नाखुश है। इसमें मध्यप्रदेश के किसानों के खातों (accounts) में करीब 7 लाख रुपए अब तक नहीं पहुंच पाए है। किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि का पैसा नहीं पहुंच पाने में अनुमान लगाया जा रहा है कि इसके पीछे पटवारी द्वारा खाता नंबर लिखे जाने में गलती या फिर आधार कार्ड में तकनीकी खराबी  (technical error) के चलते ट्रांजैक्शन (transaction) फेल हुआ है। इसी कारण लाखों किसानों के खाते में पैसे नहीं पहुंचे। जिससे किसान लगातार परेशान हैं।

ये भी पढ़े – 26 जनवरी को हुई हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट का दखल से इनकार

बता दें कि यह समस्या केवल मध्य प्रदेश के किसानों का ही नहीं है, बल्कि अन्य राज्यों में भी ऐसी समस्याएं सामने आ रही है। जहां किसानों के खातों में किसान सम्मान निधि का पैसा नहीं पहुंच पाया है। बीते दिनों केंद्र सरकार द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि के द्वारा किसानों के खातों में सातवी किश्त ट्रांसफर की गई थी। जिसमें करीब 18 हजार करोड़ रुपए का ट्रांजेक्शन हुआ था, लेकिन करीब 7 लाख 29 हजार किसानों के खाते में अब तक राशि नहीं पहुंची है। जिसे लेकर किसानों में निराशा व्याप्त है।

किसान सम्मान निधि का पैसा ट्रांसफर करने को लेकर सबसे ज्यादा शिकायत महाराष्ट्र से आई है, जहां ट्रांजेक्शन फेल हुआ है। किसान सम्मान निधि की किश्त किसानों के खातों में डाले जाने को लेकर अनुमान लगाया जा रहा है कि पटवारी की गलती है। जिन्होंने आधार कार्ड नंबर या खाता नंबर में गलती की है। जिसकी पूरी जानकारी अभी सामने नहीं आई है। फिलहाल इस समस्या का सामना किसानों को करना पड़ रहा है।

किसान सम्मान निधि का पैसा नहीं आने पर परेशान किसान अब जिला प्रशासन और तहसील के सामने राशि लेने के लिए परेशान हो रहे हैं, लेकिन यह समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। प्रदेश भर में ऐसे लाखों किसान है, जो किसान सम्मान निधि की राशि पाने के लिए लगातार दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here