जानिये किसके नाम खुल सकती है MP से राज्यसभा की लॉटरी

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में राज्यसभा (Rajya Sabha) की एक सीट के लिए अधिसूचना जारी हो गई है। नामांकन 22 सितंबर तक भरे जा सकेंगे और यदि जरूरत हुई तो 4 अक्टूबर को मतदान कराया जाएगा।

Lockdown News: फिर बढ़े कोरोना केस, 30 सितंबर तक बढ़ाए गए प्रतिबंध, राज्य सरकार का बड़ा फैसला

केंद्रीय मंत्री से राज्यपाल बने थावरचंद गहलोत (Thawar Chand Gehlot) के इस्तीफा देने से रिक्त हुई राज्यसभा की मध्य प्रदेश की एक सीट के लिए अधिसूचना बुधवार को जारी हो गई। 22 सितंबर तक नामांकन भरे जा सकेंगे और 27 सितंबर नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि होगी। यदि एक से अधिक उम्मीदवार रहते हैं तो 4 अक्टूबर को मतदान कराया जाएगा और शाम तक मतगणना पूरी होकर परिणाम भी घोषित हो जाएगा। मध्य प्रदेश में वर्तमान में 230 में से 227 विधायक हैं और 3 विधानसभा की सीटें रिक्त हैं। इनमें बीजेपी के 125 और कांग्रेस के 95 सदस्य हैं। सपा का एक, बसपा के दो और निर्दलीय चार विधायक भी हैं। कांग्रेस ने स्थितियों को देखते हुए यह फैसला लिया है कि इस चुनाव में वह अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी। कांग्रेस को पता है कि यदि उसे निर्दलीय, सपा और बसपा विधायकों का भी समर्थन मिल जाता है तो भी वह चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं है। ऐसी में बीजेपी के खाते में यह सीट जाना निश्चित है।

इस बात की प्रबल संभावना है कि पिछले 6 सालों से पश्चिम बंगाल में मेहनत कर रहे कैलाश विजयवर्गीय को केंद्रीय नेतृत्व उनकी मेहनत का परिणाम दे सकता है और उन्हें राज्यसभा के जरिए संसद में भेज केंद्रीय मंत्री बनाया जा सकता है। इसके लिए सबसे प्रबल दावेदार कैलाश विजयवर्गीय है। हालांकि उमा भारती का नाम भी चर्चा में है राजनीतिक प्रेक्षकों का यह भी कयास है कि कहीं नेतृत्व बाहर से किसी राजनेता को इस सीट के लिए उम्मीदवार न बना दें। हालांकि इस बात की संभावनाएं काफी कम नजर आती है। इंदौर के मेयर रह चुके कृष्ण मुरारी मोघे भी ताल ठोंक रहे हैं। लेकिन इन सबके बीच सबसे ज्यादा संभावनाए कैलाश विजयवर्गीय को लेकर ही है।