Lata Mangeshkar : अयोध्या में लता मंगेशकर की स्मृति में चौक का नामकरण, इंदौर में अलंकरण समारोह

93वीं जयंती आज, पीएम मोदी और सीएम शिवराज करेंगे कार्यक्रम में वर्चुअल शिरकत

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कुछ लोग ऐसे होते हैं कि बस उनका नाम ही काफी होता है उनकी शख्सियत बयान करने के लिए। जब हम लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का नाम लेते हैं तो कानोंं में जैसे मिश्री की डलियां घुल जाती हैं..आसपास सितार बजने लगते हैं..आसमान से सुरों की बारिश होने लगती है और पाते हैं कि हम एक ऐसे युग के साक्षी बने हैं जिसमें लता जी जैसी अद्भुत गायिका हुई हैं। उनका नाम लेने के बाद कुछ और कहने सुनने की गुंजाइश कहां रह जाती है। हम संगीत के बारे में जितना लिख नहीं सकते..पढ़ समझ नहीं सकते, उतना काम वे कर गई हैं। हम बस ये कर सकते हैं कि उनकी मधुर आवाज़ सुनें और अपने मन आत्मा को पवित्र कर लें।

कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, वित्त विभाग ने जारी की अधिसूचना, वेतन बढ़कर होंगे 38100 रुपए, अक्टूबर में भुगतान

आज 28 सितंबर को स्वर कोकिला लता मंगेशकर महान गायिका लता मंगेशकर की 93वीं जयंती है। इस अवसर पर अयोध्या (Ayodhya) में उनके नाम पर स्मृति चौक (Lata Chauk) बनाया गया है और यहां 14 टन वजनी 40 फीट बड़ी वीणा (Veena) की मूर्ति स्थापित की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (OM Narendra Modi) आज इस चौक का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे। आज लता दीदी को श्रद्धांजलि देते हुए पीएम ने ट्वीट किया है कि ‘लता दीदी को उनकी जयंती पर याद करते हुए बहुत सारी स्मृतियां कौंध रही हैं। अनगिनत संवाद के दौरान उन्होने मुझपर स्नेह बरसाया। मुझे खुशी है कि अयोध्या में उनके नाम पर एक चौक का नामकरण किया गया है। ये भारत की एक महान शख्सियत को सच्ची श्रद्धांजलि है।’

हम इस बात पर खुश हो सकते हैं और गर्व कर सकते हैं कि स्वर साम्राज्ञी का जन्म मध्यप्रदेश (MP) में हुआ। इंदौर (Indore) उनका गृहनगर है..28 सितंबर 1929 को इस शहर में उनका जन्म हुआ। हालांकि बाद में उनका परिवार महाराष्ट्र चला गया लेकिन इंदौर के साथ उनका नाता हमेशा जुड़ा रहा। आज उनकी जयंती पर इंदौर में ‘राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान एवं अलंकरण समारोह’ आयोजित होने जा रहा है और सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) इसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंह के माध्यम से उपस्थित रहेंगे। लता मंगेशकर को याद करते हुए मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया ‘एक दिव्य स्वर, जो मधुरता और जीवन का पर्याय है। आदरणीय स्व. लता दीदी की अप्रतिम, अद्वितीय, अनूठी आवाज संगीत को नव प्राण प्रदान कर समृद्ध करती है। उनके मीठे गीत भारत और इस संसार को युगों-युगों तक और मधुर एवं सुंदर बनाये रखेंगे। जयंती पर कोटि-कोटि नमन् करता हूं। स्वर कोकिला, भारत रत्न आदरणीय लता दीदी जी की जन्मस्थली इंदौर में आज सायं उनकी जयंती के अवसर पर आयोजित ‘राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान एवं अलंकरण समारोह’ में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सहभागिता करूंगा। दीदी मध्यप्रदेश और देश का गौरव और मान हैं,वे सदैव हम सबके हृदय में रहेंगी।’