किसानों को सरकार देगी सौगात, आज से खाते में आएगा कर्जमाफी का पैसा

madhya-pradesh--debt-waiver-to-the-farmers-in-madhya-pradesh-from-today

भोपाल। जिस वादे को लेकर कांग्रेस सत्ता में आई वो आज पूरा होने जा रहा है। आज से जय किसान फसल ऋण मुक्ति योजना के तहत किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्जा माफ किया जाएगा।इसके लिए पांच लाख किसानों के कर्जमाफी के प्रकरण मंजूर हो चुके हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ रतलाम जिले के नामली में किसानों के खातों में कर्जमाफी की राशि डालने की प्रक्रिया शुरू करेंगे।इस दौरान उनके साथ कृषि मंत्री सचिन यादव भी मौजूद रहेंगें।  इनमें किसानों को सम्मान-पत्र व कर्जमाफी के प्रमाण-पत्र बांटे जाएंगे। सम्मान-पत्र उन किसानों को बांटे जाएंगे जो 31 मार्च तक का ऋण बैंकों या सहकारी सोसायटियों में जमा कर दिया था। वही ऋणमाफी के प्रमाण-पत्र कर्जमाफी के दायरे में आने वाले किसानों को दिए जाएंगे।सरकार का लक्ष्य दो मार्च तक 25 लाख किसानों को कर्जमाफी का है।

दरअसल, कांग्रसे अध्यक्ष राहुल गांधी ने विधानसभा चुनाव के दौरान जनता से वादा किया था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो दस दिनों में किसानों का कर्जा माफ किया जाएगा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ ग्रहण समारोह के चंद मिनटों बाद ही अपना वादा निभाते हुए किसान कर्जमाफी की फाइल पर साइन कर दिया था और प्रक्रिया तब से शुरु हो चुकी थी। इस दौरान किसानों से फॉर्म भरवाए गए और जानकारी इकट्टा की गई। अब प्रकिया लगभग पूरी हो चुकी है और आज से किसानों के खाते में पैसा पहुंचना शुरु हो जाएगा। इसकी शुरुआत मुख्यमंत्री कमलनाथ रतलाम जिले के नामली से करने वाले हैं। रतलाम में मुख्यमंत्री के साथ सूबे के कृषि मंत्री सचिन यादव भी मुख्य कार्यक्रम में शामिल होंगे।

सरकार के मुताबिक योजना के अंतर्गत प्रदेश में लाभार्थी किसानों की कुल संख्या करीब 25 लाख 49 हजार 451 है, जिनके बैंक खाते में एक मार्च 2019 तक राशि भेजी जाएगी। किसानों को ऋण मुक्ति प्रमाण पत्र और किसान सम्मान ताम्र पत्र मुख्यमंत्री द्वारा प्रदान किए जाएंगे। प्रथम चरण में इस योजना के तहत रतलाम जिले के 40 हजार से भी ज्यादा किसानों के 134 करोड़ रुपये से अधिक राशि के कर्ज माफ किए जा रहे हैं।रतलाम तहसील के 9.5 हजार से ज्यादा किसानों के 41 करोड़ रुपये के कर्ज माफ किए जाएंगे।बहरहाल नामली की कृषि उपज मंडी में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री सचिन यादव करेंगे। मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब एंड सिंध बैंक, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, सेंट्रल एमपी ग्रामीण बैंक (आरआरबी), नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक जैसे 9 राष्ट्रीयकृत बैंकों के माध्यम से किसानों को योजना का लाभ दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि जय किसान ऋण माफी योजना में 22 फरवरी से पात्र किसानों के बैंक खाते में भुगतान की कार्यवाही के साथ ही किसानों को सम्मान पत्र देने का निर्णय भी लिया गया है। प्रदेश में 25 फरवरी से एक मार्च तक 383 तहसीलों में सम्मेलन किये जाएंगे। सम्मेलन में चालू ऋण खाता धारक किसानों को कालातीत फसल ऋण माफी के प्रकरणों में ऋण माफी पत्र प्रदान किये जाएंगे। जिले के प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में गठित जिला स्तरीय क्रियान्वयन समिति के अनुमोदन के बाद संबंधित बैंक में योजना के प्रावधान के अनुसार राशि जमा कराई जायेगी। किसान सम्मेलन में किसानों को सम्मान पत्र फसल ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरित किये जाएंगे। जो किसान कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो पाएंगे, उन्हें पात्रतानुसार किसान सम्मान पत्र तथा फसल ऋण माफी पत्र उनके निवास पर मैदानी अमले द्वारा अनिवार्यत: पहुँचाने के निर्देश दिये गये हैं।

कांग्रेस ने सत्ता में आने से पहले जो वादा किया था वो आज पूरा करने जा रही है।इससे किसानों को बड़ा लाभ होगा। पांच मार्च को बताऊंगा कितने किसानों को कर्जमाफी मिल चुकी है। सभी मंत्री, विधायक और पार्टी पदाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे कर्जमाफी के कार्यक्रमों में हिस्सा लें।

कमलनाथ, मुख्यमंत्री , मप्र