MP: राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, 609 करोड़ की योजनाएं स्वीकृत, सभी जिलों को मिलेगा लाभ

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने 608 करोड़ 55 लाख 87 हजार रूपये लागत की जल-प्रदाय योजनाओं की स्वीकृति जारी की है, जिनमें नवीन और रेट्रोफिटिंग योजनाएँ शामिल हैं।

मप्र राज्य सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आगामी चुनाव 2022 से पहले  जल जीवन मिशन को लेकर राज्य सरकार (MP State Government) की बड़ी तैयारी चल रही है। इसी कड़ी में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग (MP PHE Department)  ने 608 करोड़ 55 लाख 87 हजार रूपये लागत की जल-प्रदाय योजनाओं की स्वीकृति जारी की है, जिनमें नवीन और रेट्रोफिटिंग योजनाएँ शामिल हैं।जल जीवन मिशन में प्रदेश के 49 लाख 80 हजार से अधिक ग्रामीण परिवारों को नल से जल मुहैया करवाया जा चुका है।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य मंत्री  बृजेन्द्र सिंह यादव ने कहा है कि प्रदेश में जल जीवन मिशन के कार्य पूरी गति से चल रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रत्येक ग्रामीण परिवारों तक नल कनेक्शन से जल पहुँचाने के लिए जल-प्रदाय योजना का कार्य पूर्ण होते ही जलप्रदाय प्रारंभ किया जा रहा है। प्रगतिरत योजनाओं का नियमित मौका मुआयना कर कार्य की गुणवत्ता पर भी पूरा ध्यान दिया जा रहा है।  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान द्वारा मिशन में हो रहे कार्यों की समीक्षा की जाती है, जिससे ग्रामीण आबादी को यथाशीघ्र उनके घर पर ही पेयजल सुविधा का लाभ दिया जा सके।

राज्य मंत्री यादव ने बताया कि मिशन में प्राप्त जल-प्रदाय योजनाओं के प्रस्ताव पर शासन स्तर से स्वीकृति दिये जाने की त्वरित कार्रवाई जारी है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने 608 करोड़ 55 लाख 87 हजार रूपये लागत की जल-प्रदाय योजनाओं की स्वीकृति जारी की है, जिनमें नवीन और रेट्रोफिटिंग योजनाएँ शामिल हैं।जल जीवन मिशन में प्रदेश के 49 लाख 80 हजार से अधिक ग्रामीण परिवारों को नल से जल मुहैया करवाया जा चुका है। जल परियोजनाओं का संचालन और संधारण ग्राम जल एवं स्वच्छता समितियों द्वारा किया जा रहा है।

यह भी पढ़े..Gold Silver Rate: सोने में फिर उछाल, चांदी भी चमकी, खरीदने से पहले जानें ताजा भाव

मिशन में ग्रामीण क्षेत्र में संचालित स्कूल और आँगनवाड़ी में भी नल कनेक्शन दिए जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र के 70 हजार 206 स्कूल और 40 हजार 803 आँगनवाड़ी केन्द्र में जल पहुँचाया जा चुका है, जो लक्षित संख्या का लगभग 60 प्रतिशत है।मिशन में जल प्रदाय योजनाओं को पूरा कर 4 हजार 484 ग्रामों के शत-प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन से जल की सुविधा दी जा चुकी है। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और जल निगम प्रदेश में विभिन्न जल-संरचनाओं पर निरंतर कार्य कर रहे हैं, जिससे शत-प्रतिशत ग्रामीण परिवारों तक जल पहुँचाना संभव हो सके।

प्रदेश में ग्रामीण आबादी के आकलन के अनुसार एक करोड़ 22 लाख ग्रामीण परिवार को नल कनेक्शन दिए जाने का लक्ष्य है, इनमें 40.73 प्रतिशत से ऊपर लक्ष्य प्राप्त किया जा चुका है। प्रदेश के 35 हजार 641 ग्राम के हर घर में नल से जल प्रदाय करने के लिए निरंतर कार्य जारी है। इनमें 3765 ग्राम की जल-प्रदाय योजनाओं की 90 प्रतिशत, 2157 ग्राम की 80, 1748 ग्राम की 70 और 27 हजार 868 ग्राम की प्रगति 60 प्रतिशत से अधिक हो चुकी है।

मध्यप्रदेश देश में पाँचवे स्थान पर

जल जीवन मिशन में देश के सभी राज्यों ने ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन से जल उपलब्ध करवाने के लिये अपने लक्ष्य निर्धारित किए हैं। मिशन में 20 लाख से अधिक लक्ष्य वाले 10 राज्यों में अब तक प्राप्त उपलब्धि के आधार पर मध्यप्रदेश पाँचवे स्थान पर है। मिशन में मध्यप्रदेश ने जहाँ 40.73 प्रतिशत लक्ष्य पूर्ति कर ली है, वहीं असम छटवें, वेस्ट बंगाल सातवें, राजस्थान आठवें, छत्तीसगढ़ नवें और उत्तरप्रदेश दसवें स्थान पर है।