MP के अफसर ने PM मोदी से की मांग, भ्रष्टाचारियों के खिलाफ हो NRC

भोपाल। देश भर में एनआरसी और सीएए को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहा है। मध्य प्रदेश सरकार ने भी इस कानून को प्रदेश में लागू नहीं करने की बात कही है। इस बीच अपने बयानों के कारण अक्सर चर्चा में रहने वाले राज्य प्रशासनिक अफसर नियाज़ खान ने एनआरसी को लेकर एक अनोखा सुझाव दिया है। उन्होंने सोशल मीडिया ट्विटर पर पीएम मोदी से मांग की है कि देश भर में भ्रष्टाचारियों के खिलाफ एनआरसी होना चाहिए। उन्होंने अपने पोस्ट में भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा है। 

उन्होंने लिखा है कि, विश्वास कीजिये, अगर से सच्चे मन से लागू किया जाए तो सरकारी स्वामित्व वाले कई पद रिक्त हो जाएंगे। फिर ईमानदार लोगों को देश की सेवा करने का अवसर प्राप्त होगा। एक लेखक और भारत का नागरिक होने के नाते, मैं माननीय प्रधानमंत्री महोदय से निवेदन करता हूँ कि इस बिंदु पर गौर करें। ये आज के समय की मांग है, सिर्फ ईमानदार लोगों को राष्ट्र का नागरिक होना चाहिए। ऐसा कोई भी व्यक्ति जो भ्रष्ट है उसे नागरिक होने का अधिकार नहीं, लेकिन अफसोस कि ऐसे ही लोग खुद को सबसे बड़ा देशभक्त बता रहे हैं। देश स्वच्छ हो जाए अगर ऐसे भ्रष्ट लोगों को राष्ट्र के नागरिक रजिस्टर से बाहर कर दिया जाए। NRC उनके खिलाफ होना चाहिए जो सरकारी पैसे चुराते हैं। राष्ट्र का एक एक पैसा उन गरीब नागरिकों का है जो रोजी रोटी के लिये संघर्ष कर रहे हैं। कितने बच्चों के पास तन ढंकने के लिए कपड़े नहीं है। भ्रष्ट सरकारी सत्ता प्राप्त लोग इस गरीबी के लिए ज़िम्मेदार हैं। 

दरअसल, देश में नागरिकता संशोधन कानून लागू होने के बाद से ही इसका ज़ोरदार विरोध हो रहा है। वहीं, असम में हुई एनआरसी के नतीजों को देख लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। जबकि केंद्र सरकार ने स्पष्टिकरण भी दिया है कि फिलहाल देश के अन्य राज्यों में एनआरसी लागू करने का फैसला नहीं लिया गया है। न ही एनआरसी पर कोई गाइड लाइन या चर्चा की गई है। न ही अभी तक यह तय किया गया है कि किस वर्ष के दस्तावेज़ मांगे जाएंगे। लेकिन उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक लोग सड़क पर उतरकर इसका विरोध कर रहे हैं। ऐसे में अब नियाज़ खान की पोस्ट भी चर्चा का विषय बन गई है। उन्होंने एनआरसी भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ लागू करने के लिए पीएम मोदी को सुझाव दिया है।