इस सीट पर बीजेपी को लग सकता है झटका, पूर्व केंद्रीय मंत्री की साख दांव पर

5392
Mandla-Lok-Sabha-seat-Mood-among-tribal-voter-giving-jitters-to-BJP-Congress-hopeful

भोपाल/मंडला।  मध्य प्रदेश में इस बार विधानसभा चुनाव के बाद अब लोकसभा चुनाव भी रोचक होने वाले हैं। विधानसभा चुनाव में बने बिगड़े समीकरणों से राजनीतिक दलों में चिंता है। प्रदेश के पूर्वी अंचल में बसे आदीवासी संसदीय क्षेत्र मंडला में इस बार टक्कर का मुकाबला देखने को मिलेगा। आम चुनाव में इस सीट पर बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। मंडला और डिंडौरी संसदीय क्षेत्र आदिवासी बाहुल्य हैं। विधानसभा चुनाव में इस बार कांग्रेस अपने प्रदर्शन से काफी खुश है। कांग्रेस आम चुनाव में भी शानदार प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है। वहीं, बीजेपी को आदिवासी वोटबैंक खिसकने का डर सता रहा है। 

यहां से बीजेपी के वरिष्ठ नेता फग्गन सिंह कुलस्ते सांसद हैं। वह पांच बार से सांसद हैं और पूर्व केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं। लेकिन विधानसभा चुनाव में बीजेपी को मिली हार से ये साफ हो गया है कि इस बार लोकसभा चुनाव में राह आसान नहीं है। मंडला लोकसभा की आठ विधानसभाओं में से कांग्रेस ने 6 पर जीत हासिल की है। बीजेपी को सिर्फ दो सीटें मिली हैं। यही नहीं कांग्रेस ने इन सीटों पर बड़े अंतर से चुनाव जीता है। ऐसे ही नतीजे दूसरे आदिवासी इलाकों से भी मिले। मंडला की अगर बात करें तो यहां 57 फीसदी आदिवासी आबादी है और 64 फीसदी डिंडौरी में। आदिवासी वोटबैंक लंबे समय से बीजेपी का रहा है। लेकिन इस बार कांग्रेस की ओर झुकाव ने बीजेपी संगठन की चिंता बढ़ा दी है। फग्गन सिंह इस लोकसभा का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह वाजपेयी सरकार में राज्य मंत्री रह चुके हैं। पहले संसदीय मामलों के राज्य मंत्री और बाद में आदिवासी मामलों के रूप में वह मंत्री रह चुके हैं। मोदी सरकार में भी वह केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं। लेकिन बाद में उनसे इस्तीफा मांग लिया गया था। सूत्रों के मुताबिक उनके खिलाफ काफी शिकायतें मिल रही थीं। खासतौर से मोडिकल कॉलेज संबंधित मामले में। उनका नाम ‘नोट फॉर वोट’ घोटाले में भी सामने आया था। हालांकि, वह बीजेपी के बड़े आदिवासी नेताओं में गिने जाते हैं । 

उन्होंने 1996 में अपना पहला लोकसभा चुनाव जीता था, जब उन्होंने कांग्रेस के मोहन लाल को लगभग 65,000 मतों के अंतर से हराया था। 1998 में, उन्होंने कांग्रेस के छोटे लाल उइके को 13,000 मतों के कम अंतर से हराकर, इस सीट को बरकरार रखा। 1999 में, उन्होंने अपना तीसरा लगातार चुनाव जीता, कांग्रेस के उम्मीदवार देवेंद्र टेकम को 7,000 मतों से हराया। हालाँकि, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (GGP) के उभरने के साथ परिस्थितियाँ बदल रही थीं।

2004 के चुनाव में, कुलस्ते जीते लेकिन जीजीपी के हीरा सिंह मरकाम ने उन्हें असली टक्कर दी, जबकि कांग्रेस यहां तीसरे स्थान पर रही। कुलस्ते को 2.38 लाख वोट मिले थे, जबकि जीजीपी के उम्मीदवार को लगभग 1.73 लाख वोट मिले थे। कांग्रेस की सावित्री धूमकेतु मुश्किल से 1 लाख वोट हासिल कर सकीं। 2009 में, कुलस्ते अंततः कांग्रेस के बसोरी सिंह मरकाम से हार गए। कांग्रेस उम्मीदवार ने 70,000 से अधिक मतों से जीत दर्ज की। हार के बाद, उन्हें (कुलस्ते को) राज्यसभा भेजा गया। हालांकि, अगले चुनाव में, कांग्रेस ने बसोरी सिंह मरकाम को टिकट नहीं दिया और उनकी जगह ओंकार सिंह मरकाम को मैदान में उतारा गया। 2014 में ओमकार सिंह कुलस्ते से हार गए।

फिर, जीजीपी उम्मीदवार अनुज सिंह पट्टा को पर्याप्त वोट मिले। हालाँकि, यह मोदी लहर के दौरान एक चुनाव था।  2018 के विधानसभा चुनावों से बीजेपी को इस बात का अंदाजा लग गया है कि लोकसभा चुनाव में भी आदिवासी वोट कांग्रेस के पास जा सकता है।  मंडला में आयोजित भाजपा के चुनाव के बाद की समीक्षा बैठक में, पार्टी नेताओं ने कहा कि आदिवासियों के बीच वोट शेयर में भारी गिरावट आई थी। वास्तव में, 90 के दशक के अंत से, आदिवासी वोटों का हिस्सा जीजीपी में चला गया है और इसने बीजेपी की मदद की थी। फिर भी, जीजीपी एक बड़ा कारक है। विधानसभा चुनावों में, इसके उम्मीदवार अधिकांश निर्वाचन क्षेत्रों में तीसरे स्थान पर थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here